रीवा। जिले में उद्योग की प्रबल संभावनाओं को देखते हुए यह जिला औद्योगिक कॉरिडोर में शामिल हो गया है। जिले में उद्योगों का जाल बिछेगा। जिसके लिए प्रशासन को मैदानी स्तर पर एक्सरसाइज अभी से करनी होगी। जिससे लगने वाले उद्योगों में किसी भी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े। यह जानकारी निवेश संवर्धन साधिकार समिति की बैठक में शनिवार को कलेक्टर ने दी। उन्होंने कहा कि हर दो माह में यह बैठक होगी। जिसमें प्रत्येक बिन्दुओं पर चर्चा कर तैयारी की जानकारी लेने सहित आने वाली समस्याओं को दूर करने को लेकर भी चर्चा की जाएगी।

दिया जाएगा मार्गदर्शन

जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र में आयोजित बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिले में उद्योगों का जाल बिछ रहा है। इस समिति के माध्यम से उद्योगों के विस्तार के साथ ही आने वाली दिक्कतों को भी दूर किया जायेगा। समिति की बैठक प्रति दो माह में आयोजित होगी तथा इसके द्वारा स्थानीय उद्यमियों की समस्याओं के निराकरण के साथ ही नए उद्योग स्थापना के लिए उद्यमियों का मार्गदर्शन दिया जायेगा। बैठक में कलेक्टर ने विभागीय अधिकारियों को समस्याओं के निराकरण हेतु तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिये। इससे पूर्व महाप्रबंधक व्यापार एवं उद्योग केंद्र यूबी तिवारी ने बताया कि समिति के माध्यम से जिले में निवेश संवर्धन के क्रियान्वयन, मार्गदर्शन व उद्यामियों की समस्याओं का निराकरण किया जायेगा। बैठक में समिति के सदस्य व विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Source ¦¦ janghatna.com