रीवा,जन घटना | टीआरएस कॉलेज के मेजर ध्यानचंद्र स्टेडियम में खेलों के अलावा हुए अन्य आयोजन को हाईकोर्ट ने गंभीरता से लेते हुए शुक्रवार को कलेक्टर राहुल जैन और टीआरएस कॉलेज के प्राचार्य रामलला शुक्ला को नोटिस जारी कर दो सप्ताह में जवाब मांग लिया है। नोटिस में कहा गया है कि मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन होने के बावजूद निर्णय से पहले खेल मैदान अन्य आयोजन के लिए कैसे आंवाटित कर दिया गया। इसके लिए अनुमति क्यों नहीं ली गई। टीआरएस प्राचार्य को जारी नोटिस में कहा गया है कि यदि बिना अनुमति के खेल मैदान में आयोजन कराया गया तो संबधित के खिलाफ एफआईआर क्यों नहीं करवाई गई। कोर्ट के नोटिस से प्रशासन में खलबली मच गई है।

मैदान में हुआ था रावण दहन

ज्ञात हो कि गत 11 अक्टूबर को मेजर ध्यानचंद्र खेल मैदान में विजयादशमी उत्सव समिति द्वारा दशहरे पर सांस्किृतिक कार्यक्रम और रावण के पुतला दहन का कार्यक्रम किया गया था। जबकि यह मैदान सिर्फ खेल के लिये तैयार किया गया है। आयोजन से खेल मैदान खराब होने और खिलाड़ियों के लिहाज से मैदान कि स्थित नहीं रह जाती है। नियमानुसार भी ऐसा करना गलत है। फिर भी जिला प्रशासन की अनुमति पर समिति के लोगों ने खेल मैदान में दशहरे का आयोजन किया था।

हाईकोर्ट में लगी है याचिका

इस खेल मैदान में आयोजनों को लेकर पहले से एक सामाजिक कार्यकर्ता ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई है जो विचाराधीन है। निर्णय आने से पहले हुए आयोजन को कोर्ट ने गंम्भीरता से लिया है। बता दें कि इसके पूर्व जिला प्रशासन ने इस मैदान में कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह कार्यक्रम कराया था। जिसमें मुख्यमंत्री सहित अन्य लोगों ने एक जनसभा को सम्बोधित किया था। अब जिला प्रशासन की अनुमति पर विजयादशमी उत्सव समिति द्वारा यहां दशहरे का कार्यक्रम कराया गया है।

..................................................................................................................................................................

हाईकोर्ट ने शुक्रवार को एक नोटिस कलेक्टर रीवा और टीआरएस कॉलेज के प्राचार्य को जारी किया है। जिसमें खेल मैदान के आवंटन को लेकर दो सप्ताह में जवाब मांगा है। इस मामले में दोनों के खिलाफ कारवाई होगी।

बीके माला, याचिकाकर्ता

और सामाजिक कार्यकर्ता

Source ¦¦ नईदुनिया