हर किसी को जीवन में थोड़ी बहुत चिंता लगी रहती है। फिर चाहें वह लाइफ को लेकर हो या फिर किसी अन्य विषय पर। वहीं बात हो महिलाओं की तो उनके जीवन में भी चिंता बनी रहती है। जैसे  रात के खाने के लिए क्या तैयार करें, कैसे टाइम स्पैंड करें, या फिर फिट रहने के लिए क्या करें। ऐसी चिंताएं हमारे मानसिक और शारीरिक सेहत पर बहुत प्रभाव डालती हैं। ऐसे में सेहत का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। योग तनाव को दूर करने और अपने शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए बहुत प्रभावी तरीका माना जाता है। तो चलिए जानते हैं कुछ योगा आसन के बारे में जिन्हें आप रोजाना घर पर कर सकते हैं।
1) सेतु बंधासन
इसे ब्रिज पोज के रूप में जाना जाता है, सेतु बंधासन के कई लाभ हैं। आप अपने रोजाना के रूटीन में इस आसन को शामिल कर सकते हैं। ये आसन आपके पोश्चर में सुधार करता है, आपकी छाती, फेफड़े, कंधों और पेट को स्ट्रेच करता है।  अगर आपको सांस लेने में समस्या या पुरानी पीठ के निचले हिस्से में दर्द है तो यह रोजाना इसकी प्रेक्टिस करें। इसे करने के लिए पीठ के बल लेटकर शुरुआत करें और बाजुओं को अपनी-अपनी तरफ कर लें। जैसे ही आप सांस लेते हैं, अपने शरीर को फर्श से तब तक उठाएं जब तक कि आपकी छाती आपके चिन को न छू ले। कुछ सेकंड के लिए इस स्थिति में बने रहें फिर सांस छोड़ते हुए वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं। ये उन महिलाओं के लिए बहुत अच्छी है जिन्हें सांस लेने में समस्या है या पीठ के निचले हिस्से में पुराना दर्द है। 
2) नवासना
ये उन महिलाओं के लिए एकदम सही है जो एक ही स्थान पर बैठकर लंबा समय बिताती हैं। यह हमारे हाथ की मांसपेशियों, जांघों और कंधों को मजबूत करता है और हमारे शरीर में ब्लड फ्लो में भी सुधार करता है। इसे करने के लिए अपनी पीठ के बल लेटकर अपने पैरों को आपस में जोड़कर शुरू करें और हाथ को हाथ पर रखें। अपने हाथों को सीधा करें और अपनी उंगलियों को पंजों की ओर फैलाएं। अब धीरे-धीरे अपनी छाती और पैरों को जमीन से ऊपर उठाएं। ध्यान रखें कि आपका शरीर 'वी' जैसा दिखे। अपने पैरों और छाती को नीचे लाने से पहले इस पॉजिशन को कुछ देर होल्ड करें में रहें। इसे करने से पेट और कोर ताकत के निर्माण के अलावा, यह योग आसन डीप हिप फ्लेक्सर्स का भी काम करता है। 
3) हलासन
इसे हल पॉजिशन के रूप में भी जाना जाता है, आपके पूरे सामने के शरीर और जांघों को फैलाता है, साथ ही आपकी पीठ, ग्लूट्स, बाहों और पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता है। इसे करने के लिए फर्श पर सीधे लेट जाएं और हाथों को साइड में करें। कोर की मांसपेशियों का उपयोग करके धीरे-धीरे अपने पैरों को जमीन से ऊपर उठाएं। आपके कूल्हे फर्श को नहीं छूना चाहिए और पैर 90 डिग्री के कोण पर होने चाहिए। अपने पैरों को अपने सिर के ऊपर ले जाएं और अपने पैर की उंगलियों से फर्श को छूने की कोशिश करें। इसे करने से  थायरॉयड ग्रंथि की गतिविधियों को नियंत्रित करता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है।