ग्वालियर | स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अंतर्गत जिला स्तरीय कार्क्रम  "अमृत महोत्सव स्थायित्व स्वजलाम" का आयोजन शुक्रवार को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस के अवसर पर डबरा जनपद पंचायत के ग्राम जौरासी में आयोजित हुआ। यह कार्यक्रम सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर के मुख्य आतिथ्य एवं जिला पंचायत प्रशासकीय समिति की अध्यक्षा श्रीमती मनीष यादव की अध्यक्षता में आयोजित हुआ। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री आशीष तिवारी तथा भारत सरकार से आये विषय विशेषज्ञ श्री पंकज कुमार शामिल हुए।
इस अवसर पर सांसद श्री शेजवलकर ने कहा कि मुहिम चलकर गावँ गाँव को कचरा मुक्त करने के लिए ग्रामवासी बढ़-चढ़ कर स्वच्छता कार्यक्रम में भागीदारी करें। उन्होंने कहा कि हमें गंदगी से और अशिक्षा से आजादी के लिये पूरी शिद्दत के साथ प्रयास करने की आवश्यकता है। सम्पूर्ण गाँव अगर स्वच्छता को अपनाएँ तो गाँव तो स्वच्छ होगा ही। साथ ही गंदगी से उत्पन्न होने वाली अनेक बीमारियों से भी निजात मिल जायेगी।
सांसद श्री शेजवलकर एवं अध्यक्ष श्रीमती यादव ने कचरा संग्रहण केंद्र एवं कचरा संग्रहण करने के लिए ई-रिक्शा वाहनों का इस अवसर पर लोकार्पण किया। साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में प्रचार प्रसार हेतु  स्वच्छता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना  किया।
जिला पंचायत सीईओ श्री आशीष तिवारी जी ने घर घर से गीला व सूखा कचरा अलग अलग ही संग्रह करने पर बल दिया।
मुख्य रूप से आजादी का अमृत महोत्सव, सुजलाम अंतर्गत सोक पिट वनाने हेतु श्रम दान, स्वच्छता रैली, गौरव यात्रा, जन जाग्रति यात्रा आदि कार्यक्रम  माननीय अतिथिगण, स्वच्छाग्रही, स्वछता टीम और ग्राम वासियों की उपस्तिथि में सामूहिक रूप से सम्पन्न हुए।
कार्यक्रम में एसीईओ श्री विजय दुबे, जनपद सीईओ श्री कुलदीप श्रीवास्तव, श्री जयसिंह नरवरिया परियोजना अधिकारी स्वच्छ भारत मिशन, श्री नीरज शर्मा डीसी, श्री निहाल सिंह चौहान स्वयं सेवी संस्था चलो गांव की ओर स्वच्छ भारत मिशन की टीम आदि, लगभग 300 लोगो ने भाग लिया।
जिले में स्वच्छ भारत मिशन की गतिविधियाँ
ग्वालियर के 240 गाँव मे स्वस्छ्ता का कार्यक्रम चलाया जा रहा है। ग्वालियर ग्रामीण वर्ष 2017 में ओडीएफ हुआ था। ग्वालियर ग्रामीण को ओडीएफ हेतु भारत सरकार से मध्यप्रदेश में प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है। शहर की तरह ही घर घर से सूखा व गीला कचरा संग्रहण का कार्य प्रारम्भ किया जा रहा है। कचरा प्रबंधन हेतु गवलियर  जिले की ग्राम पंचायतों में गीले कचरे से जैविक खाद बनाये जाने हेतु लगभग 500 से अधिक नाडेप एवं 300 से अधिक सोख्ता गड्ढ़े बनाये गए है। गंदे पानी की निकासी के लिए लगभग 600 से अधिक नालियो का निर्माण किया गया है।
कचरे की प्रोसेसिंग हेतु 16 सेग्रिगेशन शेड निर्माणाधीन है एवं 2 शेडो का कार्य पूर्ण होकर उन पर कचरे की प्रोसेसिंग का कार्य प्राम्भ किया जारहा है। 109 गांव में सामुदायिक स्वस्छ्ता परिसरों का निर्माण कार्य पूर्ण हुआ है और लगभग 200 नये स्वच्छता परिसरों का कार्य प्रारंभ कराया जा रहा है। गवलियर के ग्रामो में जन जागृति लाने एव  स्वस्छ्ता के प्रचार प्रसार के लिए 100 स्वच्छाग्रही वॉलेंटियर के रूप में कार्य कर रहे है।