जहरीली शराब से MP में 9 महीने में 38 मौत:CM शिवराज ने बुलाई बैठक, मुरैना कलेक्टर-SP हटाए गए, SDOP निलंबित
 

मुरैना में जहरील शराब पीने से 20 लोगों की मौत के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कलेक्टर और एसपी को हटाने के निर्देश दिए हैं।
मध्य प्रदेश में 9 माह में जहरीली शराब पीने 38 लोगों की मौत हो चुकी है

मध्य प्रदेश में 9 माह में जहरीली शराब पीने 38 लोगों की मौत हो चुकी है। जहरीली शराब पीने से मुरैना में 20 लोगों की मौत के बाद अब सरकार अवैध शराब को लेकर बड़ा फैसला लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुरैना कलेक्टर अनुराग वर्मा और एसपी अनुराग सुजातिया को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा एसडीओपी को निलंबित किया गया है। मुख्मयंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने निवास पर उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री जगदीश देवड़ा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा इस बैठक में शामिल हैं। जानकारी के मुताबकि प्रदेश में पिछले 9 माह में जहरीली शराब से 38 लोगों की मौत हो चुकी है। लगातार हो रही घटनाओं के बावजूद सरकारी तंत्र शराब के अवैध करोबार को रोकने में अब तक नाकाम रहा । तीन माह पहले 15 अक्टूबर को उज्जैन में जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हुई थी। उसके बाद प्रदेश भर में देसी शराब के अवैध करखानों पर छापे मारे गए, लेकिन पिछले एक सप्ताह में प्रदेश में जहरीली शराब से मरने और बीमार होने की कई घटनाएं सामने आ चुकी है। सरकार ने उज्जैन मे जहरीली शराब कांड में अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजोरा की अध्यक्षता में एसआईटी बनाई थी। जांच के बाद उज्जैन के एसपी मनोज सिंह को हटाया दिया गया है, इसके साथ ही इलाके के सीएसपी रजनीश कश्यप को सस्पेंड कर दिया गया था।

जहरीली शराब से लगातार मौतें

2 मई 2020 को रतलाम के पचेड़ और भड़वासा गांव में 4 मौतें
6 सिंतबर 2020 को दिवानिया गांव में 2 मौतें
15 अक्टूबर को उज्जैन में 14 मजदूरों की मौत
7 जनवरी 2021 को खरगोन के देवला गांव में 2 मौतें
11 जनवरी 2021 को मुरैना में 16 मौतें