जबलपुर। सत्ता पक्ष का दवाब हो तो बड़े से बड़ा अपराधी भी कार्यवाही से बच जाता है। जिसका जीता जागता उदाहरण केंट बोर्ड के भाजपा पार्षद सुंदर अग्रवाल के मामले में देखने को मिल रहा है। जहां भारत सरकार रक्षा मंत्रालय की भूमि सर्वे नंबर 366 एवं 367 गोरा बाजार जबलपुर की रक्षा भूमि पर कुछ लोगों द्वारा अवैध अतिक्रमण कर बड़े बड़े मकान बना लिए हैं। जिसका प्रकरण डीईओ आफिस में चला, जिसमें उनके विरूद्ध संपदा न्यायालय में अनाधिकृत निर्माण (अतिक्रमण) में दोषी पाया गया। उसके बाद रक्षा सम्पदा कार्यालय द्वारा पुलिस बल, छावनी परिषद, सेना पुलिस के साथ 16/07/2020 को कार्यवाही करने गए। तो वार्ड नंबर 6 के पार्षद सुंदर अग्रवाल ने अतिक्रमण कार्यवाही में व्यवधान उत्पन्न किया। अनाधिकृत निर्माण तोड़ने नहीं दिया, डीईओ आफिस के कर्मचारियों के साथ अभद्रता करते हुए, मारपीट कर, मां बहन की गन्दी गन्दी गालियां दीं गई। वहीं सेना और पुलिस के जवानों के साथ भी, पार्षद सुंदर अग्रवाल ने अभद्रता की। जिसकी लिखित शिकायत रक्षा सम्पदा अधिकारी जाकिर हुसैन द्वारा, सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने और सरकारी कर्मचारियों के साथ अभद्रता, मारपीट, गाली गलौज करने की लिखित शिकायत की गई। लेकिन गोरा बाजार थाना प्रभारी द्वारा भी किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई। त्रस्त होकर विगत दिवस फरियादी शुभम बेन द्वारा भी, पार्षद सुंदर अग्रवाल पर कार्यवाही की मांग को लेकर उच्चाधिकारियों से शिकायत की गई। किन्तु केंट बोर्ड अध्यक्ष द्वारा शिकायत को दरकिनार कर दिया गया। जबकि यदि केंट क्षेत्र में यदि किसी गरीब द्वारा रोजी रोटी के लिए रक्षा भूमि का उपयोग करता है। तो बोर्ड अध्यक्ष स्वयं उस पर तत्काल कार्यवाही करते हैं। किन्तु इस मामले मे उनके द्वारा चुप्पी साध ली गई है। इस मामले में किसी प्रकार की कार्यवाही ना किए जाने पर। मंगलवार को फरियादी आशीष पासी द्वारा सभी सैन्य अधिकारियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों को शिकायत देकर कार्यवाही की मांग की गई। साथ ही कहा कि यदि जल्द से जल्द पार्षद सुंदर अग्रवाल पर कार्यवाही करते हुए पद से नहीं हटाया गया। तो उच्च न्यायालय की शरण में जाकर इस अपराधी को उचित सजा दिलाने के लिए बाध्य रहूंगा। 
पार्षद की सदस्यता हो चुकी है रद्द - गौरतलब है कि इससे पहले भी भूतपूर्व पार्षद लियो अलॉयसिस द्वारा, अतिक्रमण करने वालों का साथ देने पर और अमले से विवाद करने पर उनकी बतौर पार्षद केंट बोर्ड की सदस्यता रद्द कर दी गई थी। जिसका नतीजा यह हुआ कि केंट बोर्ड की इस कार्यवाही के बाद लियो अलोयसिस आज तक दोबारा चुनाव नहीं लड़ पाए।
मेरे द्वारा पार्षद सुंदर अग्रवाल के विरुद्ध सरकारी काम में बाधा डालने और अधिकारियों के साथ अभद्रता करने पर थाने में लिखित शिकायत की गई। साथ ही संबंधित कमांडिंग आॅफिसर को भी लिखित में जानकारी दी गई। किंतु इस संबंध में अब तक थाना प्रभारी गोरा बाजार द्वारा कोई भी कार्यवाही नहीं की गई।
जाकिर हुसैन,रक्षा संपदा अधिकारी, जबलपुर मंडल छावनी जबलपुर
पार्षद सुंदर अग्रवाल के विरुद्ध मर्ग कायम किया गया था और इसकी जांच भी की गई। किंतु जांच में यह पाया गया कि, अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई बारिश के दिनों में हो रही थी। इसलिए क्षेत्रीय जनों द्वारा अधिकारियों से कार्यवाही के विरोध विनती की गई।  जनप्रतिनिधि होने के नाते पार्षद सुंदर अग्रवाल द्वारा भी ऐसी ही विनती अधिकारियों से की गई। लोगों की बात मानकर अतिक्रमण के विरुद्ध कार्रवाई करने वाले अधिकारी, वापस चले गए। इसलिए ये केस बंद कर दिया गया।
थाना प्रभारी गोरा बाजार, सहदेव साहू
सेना के रिटायर्ड सैनिक की विधवा जो कि अकेली रहती है। उसके द्वारा बार-बार फोन कर मुझे बुलाया जा रहा था। जनप्रतिनिधि होने के नाते वहां जाना मैंने अपना कर्तव्य समझा और अतिक्रमण के विरुद्ध अधिकारियों से विनय की कोरोना कॉल की भीषण महामारी में, वैसे भी इस तरह से लोगों को बेघर करना उचित प्रतीत नहीं होता। मेरे द्वारा उक्त अवसर पर किसी तरह की गाली गलौज, मारपीट और अभद्रता नहीं की गई है।
पार्षद सुंदर अग्रवाल