भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव (By-election) में 355 उम्मीदवार मैदान में हैं. इन 355 उम्मीदवारों में से 63 (18 फ़ीसदी) आपराधिक मामलों वाले उम्मीदवार मैदान में हैं. इनमें से 39 (11) फ़ीसदी पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. 07 प्रत्याशियों पर हत्या के प्रयास के मामले भी है. एक उम्मीदवार पर हत्या का केस भी है. कांग्रेस के 14 प्रत्याशियों पर (50 फ़ीसदी) आपराधिक मामले दर्ज हैं तो भारतीय जनता पार्टी के 12 (43%) प्रत्याशियों पर आपराधिक मामले है. तो बसपा के 28 में से 8( 29% )उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले हैं.
उपचुनाव के मौदान में खड़े समाजवादी पार्टी के 14 में से 4 यानी 29% प्रत्याशियों और निर्दलीय 178 उम्मीदवारों में से 16( 9%)उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं. कांग्रेस पार्टी के 06 उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले हैं तो भाजपा के 8 प्रत्याशियों पर गंभीर आपराधिक मामले हैं. बसपा के 03, सपा के 04और निर्दलीय 13 उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. सात उम्मीदवारों पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है. 28में से 10 संवेदनशील सीटों पर आपराधिक केस वाले तीन सेे ज्यादा उम्मीदवार मैदान में हैं.

सुमावली के अजब सिंह पर सबसे ज्यादा 11 केस दर्ज
सुमावली से कांग्रेस प्रत्याशी अजब सिंह कुशवाहा पर सबसे ज्यादा 11 केस दर्ज हैं. इनमें हत्या के प्रयास, धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े के भी मामले हैं. आगर से कांग्रेस प्रत्याशी विपिन वानखेड़े और भाजपा के ग्वालियर पूर्व से प्रत्याशी मुन्ना लाल गोयल पर 07-07 आपराधिक मामले है. विपिन वानखेड़े पर 4 केसों में आरोप तय हो चुके हैं. ग्वालियर से भाजपा प्रत्याशी प्रद्युम्न सिंह तोमर के खिलाफ 06 केस दर्ज है. मेहगांव से निर्दलीय उम्मीदवार सुशील कांकर पर मर्डर के दो केस हैं. एक केस हत्या के प्रयास का भी है.


इनपर भी मामले दर्ज
मेहगांव से कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत कटारे पर दुष्कर्म के आरोप समेत तीन केस हैं. सुवासरा से निर्दलीय प्रत्याशी राकेश पाटीदार, मुरैना से कांग्रेस प्रत्याशी रघुराज कंसाना, मेहगांव से निर्दलीय प्रत्याशी दीपक कुशवाहा, मेहगांव से निर्दलीय प्रत्याशी अछेन्द्र सिंह और मेहगांव से निर्दलीय प्रत्याशी प्रदीप सिंह पर भी हत्या के प्रयास के मामले दर्ज है.