मुंबई. बिहार विधानसभा चुनावों (Bihar Assembly Elections 2020) के लिए चुनाव प्रचार जोरों और राजनीति जोरों पर है. इस राजनीति में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) भी कूद गए हैं. दशहरे के मौके मुंबई स्थित सावरकर ऑडिटोरियम में ठाकरे ने चुनावी वादो पर बीजेपी (BJP) पर निशाना साधा. बिहार के वोटर्स से अपील करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा, '2014 तक नीतीश कुमार (Nitish Kumar) हमारे साथ थे. उस वक्त उन्होंने कहा था कि उन्हें देश में सेक्युलर चेहरा चाहिए तो आखिर उसके बाद क्या हुआ? किसने किसे वैक्सीन दिया?' उद्धव ठाकरे ने बिहार के मतदाताओं से सोच-समझकर मतदान देने की अपील की.

बीजेपी के बिहार विधानसभा चुनावों के घोषणा पत्र पर ठाकरे ने कहा, बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में सरकार बनने पर मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने का वादा किया है, तो फिर अन्य राज्यों के लोग बांग्लादेश या कजाकिस्तान से आए हैं? उन्होंने कहा, बीजेपी को शर्म आनी चाहिए. इस संकट की घड़ी में वो राजनीति कर रही है.

सुशांत सिंह राजूपत मामले में पहली बार दी टिप्पणी

दशहरा कार्यक्रम में सीएम उद्धव ठाकरे ने पहली बार बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले पर भी बात की. ठाकरे ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में अपने बेटे आदित्य ठाकरे पर लग रहे आरोपों पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा, बिहार के बेटे को न्याय दिलाने के लिए शोर मचाने वाले महाराष्ट्र के बेटे की छवि धूमिल करने में लगे है. ठाकरे ने कहा, सुशांत सिंह बिहार के बेटे हैं, लेकिन आप हमारे महाराष्ट्र को क्यों बदनाम कर रहे हैं?
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत में अगर कहीं पीओके है तो ये प्रधानमंत्री की नाकामी है. वहीं उद्धव ने राज्‍यपाल पर निशाना साधते हुए उन्‍हें 'काली टोपी' पहनने वाले व्‍यक्ति के रूप में पुकारा. उद्धव ठाकरे ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा, 'वो मेरी सरकार को गिराना चाहते हैं, लेकिन मैं उन्‍हें सूचित कर दूं कि पहले अपनी सरकार को बचा कर दिखाएं.