लंदन । महामारी के लिए गठित ब्रिटिश सरकार की सलाहकार समिति के एक शीर्ष वैज्ञानिक ने कहा कि कोरोना वायरस को कभी भी खत्म नहीं किया जा सकेगा। कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर ब्रिटेन के शीर्ष वैज्ञानिक सलाहकार के दावे से लोगों की चिंता बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि हालांकि, एक वैक्सीन वर्तमान स्थिति को थोड़ा बेहतर बनाने में मदद जरूर करेगी। ब्रिटिश सरकार की साइंटिफिक एडवाइजरी ग्रुप ऑफ इमरजेंसी के एक सदस्य जॉन एडमंड्स ने सांसदों को बताया कि हम हमेशा के लिए इस वायरस के साथ रहने वाले हैं। इस बात की बहुत कम संभावना है कि इसका उन्मूलन होने जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि हम सर्दियों के अंत तक कोरोना वायरस की कोई वैक्सीन जरूर बना लेंगे, जिससे हमें सहायता मिलेगी।
ब्रिटिश वैज्ञानिक ने यह भी कहा कि हमें वैक्सीन से कुछ सहायता मिल सकती है तो उसका जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। हमें हर हाल में कोरोना के संक्रमण के मामलों को जितना कम हो सके उतना कम रखना चाहिए। वह दिन दूर नहीं जब हम एक वैक्सीन का इस्तेमाल कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि यूके ने विभिन्न कोरोनावायरस टीकों के निवेश किया है। ब्रिटेन ने वैक्सीन बना रही छह अलग-अलग कंपनियों के साथ डील की है। इसके जरिए उन्हें कोरोना वायरस वैक्सीन की 340 मिलियन खुराक मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि पहली बार में शायद हम सभी लोगों को इस वैक्सीन की डोज न दे पाएं। इसलिए शुरुआत में हम सबसे अधिक जोखिम वाले लोग और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को इस वैक्सीन की डोज देंगे। बता दें ‎कि  यूरोप के अन्य देशों की तरह ब्रिटेन भी कोरोना वायरस की दूसरी लहर की चपेट में है। देश में लगे कई प्रतिबंधों के बावजूद ब्रिटेन में कोरोना वायरस के 21 हजार से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। ब्रिटेन में संक्रमित लोगों की संख्या लॉकडाउन के बावजूद तेजी से बढ़ती ही जा रही है।