कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा द्वारा भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय को रावण कहे जाने के बाद सियासत गरमा गई है। भाजपा ने शनिवार को मामले को लेकर प्रेस वार्ता की और कहा कि कांग्रेस ने हिंदू धर्म का अपमान किया है। बाल बढ़ाना हिंदू धर्म की संस्कृति है। भगवान राम ने भी अपने बाल बढ़ाए हुए थे। ऐसे में सज्जन वर्मा ने बाल बढ़ाने को पाखंड कहकर हिंदू धर्म का अपमान किया। वहीं, भाजपा प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कहा कि कमलनाथ क्या मिस वर्ल्ड हैं, प्रेमचंद गुड्डू क्या मिस यूनिवर्स हैं। हमने तो कभी उनकी आलोचना उनके दैहिक संरचना के आधार पर नहीं की है। फिर कांग्रेसी ऐसी भाषा का उपयोग क्यों कर रहे हैं।

मीडिया वार रूम प्रभारी बाबू सिंह रघुवंशी ने कहा कि सज्जन वर्मा ने जाे अभद्र भाषा का प्रयोग किया, उसका जवाब नहीं दिया जाए। फिर लगा, नहीं दिया तो आगे भी यह सिलसिला चलता रहेगा। इसे अभी रोकना जरूरी है। श्रावण मास और नवरात्रि में कुछ लोग कटिंग नहीं करवाते। मेरा मुंडन 6 और मेरे भाई का 9 साल में हुआ। केस बढ़ाकर पूजा करना हिंदू धर्म की परंपरा है। भगवान राम ने भी 14 साल वन में रहते हुए केस मुंडन नहीं करवाया। बाल बढ़ाकर पूजा करना पाखंड है, यह एक हिंदू विरोधी पार्टी का नेता ही कह सकता है। 90 फीसदी देवी मंदिरों के पुजारियों के बाल बढ़े हुए हैं।

यह हिंदू धर्म और साधु-संतों का अपमान

रघुवंशी ने कहा कि यह केवल कैलाश विजयवर्गीय का अपमान नहीं है, बल्कि सभी हिंदू धर्म और साधु-संतों का अपमान है। यह वे कर रहे हैं, जो कपटी कंप्यूटर बाबा को अपने चुनाव का स्टार प्रचारक बनाकर घुमा रहे हैं। विजयवर्गीय ने दिग्विजय और कमलनाथ को चुन्नू-मुन्नू ही कहा था। रंगा-बिल्ला या रावण, कंस या मेघनाद तो नहीं कहा। जो बचकानी हरकत करते हैं, उन्हें हम चुन्नू-मुन्नू कहते हैं, उस शब्द का इतना अभद्र जवाब देना निंदनीय है। वर्मा की वाणी तो उनकी पार्टी के लिए भी वैसी ही रहती है। मैं कांग्रेस के बड़े नेताओं से निवेदन करता हूं कि वे ऐसे अभद्र भाषाओं को बंद करवाएं।

वे ऐसी भाषा बोलेंगे तो हम उनके निजी मामले सामने लाएंगे

वरिष्ठ नेता गोविंद मालू का कहना है कि कांग्रेसी नेता हमारे नेताओं की लोकप्रियता से घबराकर ऐसी भाषा बोल रहे हैं। विजयवर्गीय 9 दिनी माता पूजा को वे तंत्र-मंत्र करना कहते हैं। ये मंत्र पढ़ने पर आपत्ति ले रहे हैं। इस अल्पमत की सरकार इन्हें हमने बनाने दी। इन्हें कोई जना देश नहीं मिला था। जोड़-तोड़ कर सरकार बनाई और मप्र के संसाधन का दुरुपयोग किया। मप्र की संपत्ति को ये नीलाम करने की तैयारी में थे। ये नहीं माने तो हम इनके निजी घपले-घोटाले सबके सामने लाएंगे।

प्रवक्ता शर्मा ने कहा कि बाल बढ़ाना हमारी संस्कृति में है। पटवारी और वर्मा से सांवेर की सभा में मर्यादा तार-तार कर दी। जिन दिग्विजय सिंह को चुन्नू-मुन्नू कहने पर वे आगबबूला हो रहे हैं। एक समय उन्हीं दिग्विजय को उन्होंने मां की गाली बकी थी। यह सब सार्वजनिक था। यह अहंकार इनके नाश का कारण बनेगा। कमलनाथ क्या मिस वर्ल्ड हैं, प्रेमचंद गुड्डू क्या मिस यूनिवर्स है। हमने तो कभी उनकी आलोचना उनके दैहिक संरचना के आधार पर नहीं की है। राजनीति में थोड़ा गरिमा का ध्यान रखिए। हमने सज्जन वर्मा की बयानबाजी के खिलाफ डीआईजी और जिला निर्वाचन अधिकारी के सामने शिकायत दर्ज कराई है।

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा- विजवयर्गीय ने सांवेर में ही कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को चुन्नू-मुन्नू कहा है। जवाब तो देना ही पड़ेगा। वो कभी-कभी राहुल गांधी को पप्पू बोलते हैं। सुनो कैलाश तुम्हारी औकात कितनी है। अपनों से बड़ों पर मुंह उठाकर थूकोगे तो थूक तुम्हारे ऊपर ही गिरेगा। अब अपनी कहानी मुझ से सुन लो। भूल गए जब साड़ी पहन के बाल बड़े-बड़े करके, नाक में नथुनी पहनकर, हाथ में चूड़ी पहनकर तंत्र-मंत्र करते थे। बाल बड़े कर लिए, चोटी गूंथ ली... अरे पाखंडी...।

उन्होंने कहा कि अपनी बात भूल गए। मुख्यमंत्री बनने के सपने देख रहा थे। अब भाजपा ने उठाकर कहां फेंक दिया। वहां जाकर जादू करो, लेकिन वहां उससे बड़ी जादूगरनी ममता बनर्जी बैठी हुई हैं। दशहरा जैसे-जैसे पास आता है इसका चेहरा रावण जैसा होने लगता है। मैंने बहुत पास से इसे देखा है। आंखें छोटी-छोटी... नाक पकौड़ा जैसी हो जाती है।