कोरोना के हालात को देखते हुए इस बार नवरात्रि पर सरकार की ओर से होने वाला वायब्रेंट नवरात्रि आयोजन नहीं होगा। इस फैसले के बाद प्रदेशभर में भी नवरात्रि के गरबा आयोजनों की अनुमति मिलने पर संशय खड़ा हो गया है। गुजरातियों में नवरात्रि को लेकर रहने वाला उत्साह देखते हुए सरकार एकदम से कोई फैसला नहीं ले पा रही है, लेकिन इस फैसले से यह संकेत जरूर मिल रहे हैं कि सार्वजनिक और निजी पार्टी प्लॉटों में होने वाले नवरात्रि आयोजन की मंजूरी भी शायद नहीं मिलेगी। केंद्र सरकार ने सितंबर में ही घोषित की एसओपी में स्पष्ट उल्लेख किया है, जिसमें उत्सवों को मनाने पर प्रतिबंध है। ऐसे में सूत्रों का कहना है कि नवरात्रि पर राज्य सरकार इसके लिए कोई अलग से घोषणा करने की जरूरत नहीं समझ रही। सूत्रों के अनुसार नवरात्रि पर प्रतिबंध की घोषणा कर सरकार युवाओं की नाराजगी भी नहीं चाहती है। सिक्के के दोनों ओर स्थिति कोरोना के कारण बिगड़ी है कि सामूहिक एकत्रित होने वाले सभी कार्यक्रमों पर रोक लगाने जैसे हालात बन गए हैं।