अभिनेत्री शुभांगी अत्रे ने लोकप्रिय कॉमेडी शो 'भाबीजी घर पर है' में अंगूरी भाभी के किरदार को निभाया है। अंगूरी भाभी के किरदार को लेकर शुभांगी ने कहा कि "अंगूरी एक निर्दोष इंसान है। उसकी सबसे बड़ी खासियत उसकी सादगी और मासूमियत है और यही कारण है कि मैं उससे बहुत जुड़ी हुई हूं। वह स्वभाव से बहुत घरेलू भी है और मेरा मानना है कि मैं भी कुछ हद तक उसी तरह हूं। केवल अंतर यह है कि मैं एक कामकाजी महिला हूं, लेकिन उसकी मासूमियत और सरलता बहुत आकर्षक है और मुझे विश्वास है कि दर्शक भी इसे बहुत पसंद करते हैं।'' उन्‍होंने आगे कहा कि मुझे लगता है कि 60 प्रतिशत अंगूरी मैं ही हूं, क्योंकि आपका चेहरा किरदार का आईना है। यह बहुत महत्वपूर्ण था। मैं अपने परिवार में सबसे छोटी हूं, इसलिए लोग मुझे आज भी एक बच्चे की तरह मानते हैं। मुझे लगता है कि आज भी मुझमें थोड़ा बचपना है और इससे मुझे अंगूरी के किरदार में काफी मदद मिली है।" उन्‍होंने अपने सह-कलाकारों आसिफ शेख और रोहिताश्व गौड़ की भी प्रशंसा की, जो क्रमशः विभूति नारायण और मनमोहन तिवारी के किरदार निभाते हैं। उनका कहना है कि "वे दोनों अच्छे सह-कलाकार हैं। आसिफ़ जी हम सभी को बहुत प्रभावित करते हैं और हमें बहुत बिगाड़ते हैं। वह एक अद्भुत सह-अभिनेता हैं और वह इतनी सहजता और मस्ती के साथ शूटिंग करते हैं। आसिफ़ जी के साथ मेरा तालमेल बहुत मज़ेदार है क्योंकि हम किसी भी विषय पर चर्चा कर सकते हैं। उनके पास इतना अनुभव है कि मुझे बहुत कुछ सीखने को मिलता है। रोहित जी पूरी तरह से सज्जन हैं और अक्सर अपनी दुनिया में रहते हैं। वह बहुत विनम्र हैं और सभी को खुश रखते हैं। वह कभी परेशान नहीं हो सकते। मुझे वास्तव में अपने सह-कलाकारों के रूप में आसिफ जी और रोहित जी के रूप में आशीर्वाद मिला है।' बता दें कि शुभांगी एक दशक से अधिक समय से टेलीविजन उद्योग का हिस्सा हैं और इस दौरान उन्‍होंने कई बदलाव देखे हैं। इस बारे शुभांगी ने कहा कि "मुझे लगता है कि टेलीविजन उद्योग बहुत संगठित हो गया है। पहले शॉट अव्यस्थित होते थे और शेड्यूल रात-रात भर लंबे होते थे। समय के संदर्भ में चीजें अब बेहतर हो गई हैं। एक और बात यह है कि अभिनेताओं के लिए बहुत काम है। जब से ओटीटी प्लेटफॉर्म आया है चीजें बदल गई हैं और बताने के लिए अधिक कहानियां हैं, अधिक दर्शकों और अभिनेताओं को काफी दिलचस्प भूमिकाएं मिल रही हैं। मुझे लगता है कि सामग्री-वार हमें सुधार करने की जरूरत है बाकी कई अच्छे बदलाव हुए हैं।"