बर्लिन । जर्मनी में वैश्विक महामारी कोरोना का प्रकोप अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुआ और ऐसे में वहां में गर्मी की छुट्टियों के बाद स्कूल खोल दिए गए जिसके कारण संक्रमण तेजी से फैलने लगा। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस की नई लहर के चलते गर्मियों की छुट्टियों के बाद खोले गए 2 स्कूलों के सैंकड़ों छात्रों को वापस भेज दिया गया और स्कूल बंद कर दिए गए। मेकलेनबर्ग-वेस्टर्न पोमेरमरिया राज्य में खुले स्कूलों में एक अध्यापक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद छात्रों को घर वापस भेज दिया गया। सोमवार को माध्यमिक स्कूल को फिर से खोलने के बाद संक्रमित शिक्षक के बारे में पता चलने के बाद अब सभी 55 शिक्षकों को अब वायरस का परीक्षण करना होगा। जिला प्रशासन द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि स्कूल कम से कम बुधवार तक बंद रहेगा। इसके अलावा रोस्टॉक जिले के एक प्राथमिक स्कूल के 100 विद्यार्थियों को दो सप्ताह के लिए क्वांरटीन किया गया है। 
ज्ञात हो कि कुल 16 राज्यों में से मेकलेनबुर्ग-फोरपोमेर्न में सबसे पहले स्कूलों को खोला गया है और इसी के साथ वह पहला राज्य है जहां सभी 152,700 छात्रों को वापस स्कूल आने को कहा गया। इस साल मार्च के मध्य में स्कूल बंद होने के बाद से ऐसा पहली बार हुआ है कि सबको आने की अनुमति मिली है लेकिन महामारी की दूसरी लहर के बीच स्कूलों को फिर से बंद कर दिया गया है। हालांकि संक्रमण के खतरे को कम से कम रखने के लिए छात्रों को ऐसे समूहों में बांटा गया था लेकिन एक ही समूह के छात्रों को आपस में मिलने-जुलने पर कोई पाबंदी नहीं न होने कारण छात्रों पर कोरोना का खतरा मंडरा रहा है। इन राज्यों की सरकारों द्वारा स्कूल खोलने की फैसले की कड़ी आलोचना की जा रही है।