भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कोरोना महामारी को देखते हुए यूएई में 19 सितंबर से शुरु हो रहे आईपीएल-2020 के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) को सख्ती से लागू करने का फैसला किया है। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में जैव सुरक्षित माहौल में आईपीएल कराने को लेकर बोर्ड ने सभी फ्रेंचाइजी को एसओपी की जानकारी दे दी है। फ्रेंचाइजी को सौंपी गई एसओपी में कहा गया है कि खाली स्टैंड को विस्तारित ड्रेसिंग रूम के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने के लिए टीम की बैठकें भी बाहर ही होंगी।
खिलाड़ी और सहयोगी स्टाफ से जुड़ सकते हैं परिवार
आईपीएल के दौरान हालांकि खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के परिवार उनके साथ जुड़ सकते हैं, पर उन्हें टीम बस में यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्हें जैव सुरक्षित माहौल में ही रहना होगा। फ्रेंचाइजी को सौंपी गई एसओपी में कहा गया है कि टीमें खाली स्टैंड का ही इस्तेमाल करें। जिससे सामाजिक दूरी को बनाए रखने में सहायता मिलेगी केवल आवश्यक कर्मचारी को ही मैदान में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। कोई और प्रवेश नहीं कर पाएगा, इस वजह से स्टेडियम में अधिक जगह रहेगी। साथ ही टीमों को इलेक्ट्रॉनिक टीम शीट का उपयोग करने के लिए कहा गया है। अब कप्तान अंतिम ग्यारह की सूची की हार्ड कॉपी लेकर मैदान में नहीं जा पाएंगे। मेडिकल टीम (जिसमें फिजियो, मालिश करने वाले शामिल हैं) के सदस्यों को खिलाड़ी (मालिश के दौरान) के साथ शारीरिक संपर्क में आने की जरूरत पड़ी तो उन्हें पीपीई किट पहननी होगी। खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों को सख्ती से सलाह दी गई है कि वे मैच के दिनों के बाद अपने होटल में वापस जाकर स्नान करें। 
नियमों के पालन में जोर दें : नेस
आईपीएल टीम किंग्स इलेवन पंजाब के सह मालिक नेस वाडिया ने कहा है कि कोरोना महामारी को देखते हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में सख्ती से सभी नियमों का पालन होना चाहिये। जिससे टूर्नामेंट में कोविड-19 का एक भी मामला सामने नहीं आये। वाडिया ने कहा, ‘‘ सभी टीम मालिक खिलाड़ियों और इसमें शामिल होने वाले अन्य लोगों की सुरक्षा के बारे में बहुत ज्यादा चिंतित हैं क्योंकि अगर संक्रमण का एक भी मामला सामने आ गया तो । आईपीएल बेकार हो जाएगा। ’’
वीवो के प्रायोजक के हटने को लेकर उन्होंने कहा कि चीनी कंपनी की जगह कोई और प्रायोजक आ सकता है इसलिए इसपर ज्यादा विचार की जरुरत नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि बीसीसीआई ने टाइटल प्रायोजन के लिये क्या फैसला किया है। जहां तक टीम मालिकों की बात है सभी आईपीएल को सफल बनाना चाहते हैं। ’’ मौजूदा आर्थिक माहौल में वाडिया को उम्मीद है कि प्रायोजक जुड़ने के लिये कड़ी मेहनत करेंगे, भले ही टीम प्रायोजक हों या फिर आईपीएल प्रायोजक। उन्होंने कहा, ‘‘सभी प्रायोजक कड़ी मेहनत करेंगे लेकिन यह आईपीएल सबसे ज्यादा देखा जायेगा। ’’ बीसीसीआई ने टीमों को 16 पेज की मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) भेजी है ताकि टूर्नामेंट का आयोजन अच्छी तरह से हो सके, जिसमें खिलाड़ियों, सहयोगी स्टाफ, टीम अधिकारियों और मालिकों को जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में रहना होगा।