नई दिल्ली । लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव के बीच पेइचिंग ने 15 जून को जिस जगह दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी, वहां से अपने सैनिकों को 1.5 किलोमीटर पीछे हटा लिया है। दोनों देश तनाव को कम करने के लिए कई दौर की कमांडर स्तर की बातचीत कर चुके हैं। लद्दाख में तनाव न घटता देख नरेंद्र मोदी ने एनएसए अजीत डोभाल को मोर्चे पर लगा दिया था। जानकार इसे तनाव घटाने की तरफ पहला कदम मान रहे हैं। 15 जून की रात दोनों देशों के जवानों के बीच खूनी संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे, जबकि चीन के 40 जवान मारे गए थे। लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिक डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया के तहत करीब 1.5 किमी पीछे हट गए हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चीनी सैनिकों ने अपने कैंप भी पीछे हटाए हैं। हालांकि इस पर अभी सेना का कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।