नई ‎दिल्ली । देश की प्रमुख दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के अनुसार सांविधिक बकाए का प्रावधान करने के बाद मार्च 2020 को समाप्त वित्त वर्ष के दौरान उसका नुकसान उसकी हानि 73,878 करोड़ रुपए रही। यह किसी भी भारतीय कंपनी को हुई अब तक का सबसे बड़ा नुकसान है। न्यायालय ने आदेश दिया था कि सांविधिक बकाए की गणना में गैर-दूरसंचार आय को भी शामिल किया जाएगा, जिसके बाद कंपनी को 51,400 करोड़ रुपए का भुगतान करना है। कंपनी ने कहा कि इस देनदारी के कारण कंपनी का कामजारी रहने को लेकर गंभीर संदेह पैदा हुए। वोडाफोन आइडिया (वीआईएल) ने शेयर बाजार को बताया कि मार्च तिमाही के दौरान उसका नुकसान 11,643.5 करोड़ रुपए रहा, जो एक साल पहले की समान तिमाही के दौरान 4,881.9 करोड़ रुपए था और अक्टूबर-दिसंबर 2019 तिमाही में 6,438.8 करोड़ रुपए था। कंपनी ने बताया कि मार्च 2020 तिमाही के दौरान परिचालन से आय 11,754.2 करोड़ रुपए रही। बीते वित्त वर्ष के दौरान कंपनी को 73,878.1 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। वोडाफोन आइडिया को वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान 14,603.9 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था।