उल्हासनगर। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ सोमवार को कांग्रेस पार्टी ने महाराष्ट्र समेत देशभर में विरोध प्रदर्शन किया। उल्हासनगर में भी जिला कांग्रेस कमिटी के कार्याध्यक्ष मोहन साधवानी के नेतृत्व में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने तहसीलदार से मिलकर राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन पत्र सौंपा जिसमें पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोत्तरी के फैसले को तुरंत वापस लेने की मांग की गई.  इस मौके पर मोहन साधवानी, पार्टी के जिला महासचिव अमर जोशी, रोहित साल्वे, साउथ ब्लॉक के अध्यक्ष किशोर धड़के तथा अख्तर समेत दर्जनों कार्यकर्त्ता और पदाधिकारी मौजूद थे. ज्ञापन देने के बाद उल्हासनगर शहर जिला कांग्रेस कमिटी के कार्याध्यक्ष मोहन साधवानी ने पत्रकारों को बताया कि महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और राजस्व मंत्री बाला साहेब थोरात के आदेश पर उल्हासनगर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कांग्रेस पार्टी की ओर से तहसीलदार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन पत्र सौंपा गया है. श्री साधवानी ने बताया कि इस समय देश कोरोना के संकट से जूझ रहा है. इसकी चपेट में आने से अमीर और गरीब सभी तबके के लोग प्रभावित हुए हैं. साथ ही चारों तरफ बेरोजगारी और महंगाई से लोग परेशान हैं. लेकिन केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल के दाम 3 महीने में 22 बार बढ़ाए हैं, जिसका सीधा असर गरीब और मध्यम वर्ग पर पड़ा है. श्री साधवानी ने कहा कि लाकडाउन और कोरोना की महामारी में जनता जीने का संघर्ष कर रही है ऐसे में पीएम मोदी जनता के जख्मों पर महंगाई का नमक छिड़कने में लगे हैं. उन्होंने सरकार से पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोत्तरी के फैसले को तुरंत वापस लेने की मांग की है.