कोलकाता। पश्चिम बंगाल में मीडिया पर कथित सेंसरशिप के खिलाफ राज्यपाल जगदीप धनखड़, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सरकार पर लगातार हमलावर हैं। शनिवार को उन्होंने एक ट्वीट किया है। इसमें महात्मा गांधी के शब्दों के जरिए उदाहरण देते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से पूछा है कि क्या प्रेस को कमजोर कर लोकतंत्र को मजबूत किया जा सकता है?

अपने ट्वीट में राज्यपाल ने लिखा है, “महात्मा गांधी ने कहा था कि आप मुझे जंजीरों में जकड़ सकते हैं। मुझे प्रताड़ित कर सकते हैं। इस शरीर को भी नष्ट कर सकते हैं लेकिन कभी भी मेरे दिलो-दिमाग को कैद नहीं कर पाएंगे। मीडिया की स्वतंत्रता पर पाबंदी किसी भी तरह से स्वीकार्य नहीं है। राज्य में मीडिया की स्वतंत्रता बरकरार रहनी चाहिए। क्या मीडिया के कमजोर होने पर लोकतंत्र फल फूल सकता है?

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले ही पश्चिम बंगाल के सबसे बड़े बांग्ला दैनिक अखबार के संपादक को थाने में बुलाकर पूछताछ की गई थी। उसके बाद एक राष्ट्रीय हिंदी अखबार के संपादक को घंटों तक थाने में बैठाए गया था। वजह सिर्फ इतनी थी कि दोनों अखबारों ने कथित तौर पर राज्य सरकार के खिलाफ खबरें बनाई थी। इसे लेकर राज्यपाल ने नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने संपादकों को बुलाए जाने के मामले में राज्य के मुख्य सचिव से रिपोर्ट तलब की थी।