रायपुर :  कोरोना वायरस के चलते राज्य में लॉकडाउन जारी है। लॉकडाउन के चलते राज्य शासन द्वारा प्रदेशवासियों के लिए खाद्यान्न सहित अन्य सभी जरूरी सामानों की पूर्ति की जा रही है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से तीन महीने का निःशुल्क मिलने से लोगों को राहत मिली है। राज्य के सभी लोगांे को सरकार की ओर खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा रहा है।

    सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत सरकार ने राज्य के लोगांे को राशन बांटने का लक्ष्य तय किया है, ताकि कोरोना लॉकडाउन के दौरान कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। बेमेतरा जिले के नवागढ़ विकासखण्ड अतंर्गत ग्राम पंचायत खाम्ही निवासी मीनाबाई बंजारे, हीरा बाई साहू ने संयुक्त रूप से बताया कि इस लॉकडाउन में उनके सामने रोजी रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई थी। किन्तु सरकार के सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत प्रदाय किये जाने वाले राशन ने इस समस्या को खत्म कर दी, अब हमारे परिवार के सभी सदस्यों को खाद्यान्न सामग्री प्राप्त हो रही है और हमें अब रोजी-रोटी की समस्या नहीं है। इसी प्रकार बेमेतरा विकासखण्ड के ग्राम पंचायत भैंसा निवासी घसनीन बाई ने सरकार के सार्वजनिक वितरण योजना अंतर्गत प्रदाय किये जाने वाले निःशुल्क राशन सामग्री ने उनके लॉकडाउन के दौरान भूखे रहने की समस्या को जड़ से समाप्त कर दी है। राज्य सरकार की इस योजना से बेमेतरा जिले के सभी नागरिकों को राहत मिली हैं, लोगों ने इस विपरीत परिस्थिति में इस योजना के साथ साथ राज्य सरकार पर भी भरोसा जताया है।

    लॉकडाउन में अपनी रोजी रोटी गवांने वाले श्रमिकों मजदूरों जिनके पास राशन कार्ड नही है, उन्हें भी बिना राशन कार्ड के चांवल दिया गया है। बेमेतरा जिले में माह जून में प्राथमिकता श्रेणी के लिए 50961 क्विंटल चावल, अंत्योदय हेतु 14 हजार 43, अन्नपूर्णा हेतु 134, एकल निःशुल्क हेतु चावल 343 एवं निःशक्तजनों के लिए 28 क्ंिवटल चावल के साथ ही सामान्य श्रेणी के लिए 8070 क्विंटल चावल का आबंटन जारी किया गया है। सरकार द्वारा सार्वजनिक वितरण प्रणाली योजना के तहत बेमेतरा जिले के लिए 137 क्विंटल चना का भी आबंटन जारी किया गया है।