रायपुर. कोरोना वायरस (Coronavirus) का असर अर्थव्यवस्था के साथ शादियों पर भी पड़ा है. केंद्र की गाइडलाइन के मुताबिक सामूहिक कार्यक्रम में रोक लगा दी थी. इस वजह से बड़ी संख्या में शादियों (Marriage) को कैंसिल कर दिया गया. अब जिन लोगों की शादी फिक्स हो गई है वे अब परमिशन लेने अधिकारियों के पास पहुंच रहे हैं. लोगों का कहना है कि मई-जून में शादी का मुहूर्त है, अगर इस दौरान शादी नहीं होती तो काफी लंबा इंतजार करना पड़ सकता है. अब नौतपा के तपती धूप में भी शादी की अनुमित लेने लोगों की लाइन कलेक्ट्रेट में लगी रही है.

 शादी का कार्ड लेकर परिजन कलेक्टोरेट पहुंच रहे हैं. उनका कहना है कि शादी के लिए केवल 5 लोगों को ही बुलाएंगे, बस परमिशन दे दें. अनुमित लेने पहुंचे लोगों को कहना है कि मई-जून में अगर शादी की अनुमित नहीं मिलती है तो उनको लंबा इंतजार करना पड़ सकता है. शादी की अनुमित लेने पहुंचे बलौदाबाजार के एक शख्त का कहना है कि बेटे की शादी मई में तय की गई थी, लेकिन लॉकडाउन के कारण डेट जून तक बढ़ा दी गई. अब शादी की अनुमित लेने पहुंचे हैं. बता दें कि सरकार के निर्देश के मुताबिक अनुमति मिलने के बाद ही शादी हो सकती है.

कई शादी कैंसिल

लॉकडाउन की वजह से 70 फीसदी से ज्यादा शादी कैंसिल कर दी गई है. अब लॉकडाउन 4 में मिली कुछ रियायतों के बाद अब लोग शादी की अनुमित लेने पहुंच रहे हैं. लोगों का कहना है कि वर-वधु की कंडली का मिलान भी हो चुका है. मुहूर्त जून का मिला है. अगर अभी शादी नहीं होती है तो तीन साल तक का इंतजार करना पड़ सकता है. मालूम हो कि शादियों पर रोक नहीं लगाई गई है. एक जगह लोगों के इक्ठा होने पर मनाही है. सरकार के तय किए गए नियम और अनुमति के बाद शादी की जा सकती है.