रायपुर। अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर तीन दिसम्बर को प्रदेश के विभिन्न जिलों में दिव्यांगजनों का परीक्षण एवं प्रमाणीकरण के लिए जिला स्तरीय शिविर का आयोजन किया गया। समाज कल्याण विभाग द्वारा अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के उपलक्ष्य में ग्राम मसोरा में भी दिव्यांग दिवस मनाया गया एवं शिविर का भी आयोजन किया। शिविर में कोण्डागांव जिले के कलेक्टर श्री नीलकंठ टीकाम के हाथों ग्राम मसोरा की कक्षा 8वीं में पढ़ने वाली मासूम मूक-बधिर कुमारी रेशमा दीवान को श्रवण यंत्र प्रदान किया गया। श्रवण यंत्र लगने से अब रेशमा इशारों-इशारों में बाते करने लगी है। उन्हें भी अब आम दिनचर्या की बातों को समझने में आसानी हो रही है। 
समाज कल्याण विभाग के तत्वाधान मे आयोजित शिविर में ग्राम मसोरा की कक्षा आंठवीं में पढ़ने वाली मासूम रेशमा दीवान के लिए खुशियांे की सौगात लेकर आया। जन्म से मूक-बधिर रेश्मा को जब श्रवण यंत्र लगाया गया तब वह इशारों-इशारों में संकेत देते हुए लोगों से बाते करने लगी। इसे देखकर सभी लोग प्रसन्न हो गये। मौके पर उसके शिक्षकों ने बताया कि वह पहली बार उक्त बालिका की प्रतिक्रिया को देख पा रहे है। दिव्यांगों के उत्साहवर्धन के लिए कलेक्टर श्री टिकाम ने उनके साथ जमीन में बैठकर भोजन भी किया।
ज्ञात हो कि प्रतिवर्ष 3 दिसंबर को दुनियाभर में विश्व विकलांगता दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मुख्य रूप से दिव्यागों के प्रति लोगों के व्यवहार में बदलाव लाने और उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागरुक करने के लिए समर्पित किया गया है। 1992 के बाद से ही दुनियाभर में विश्व विकलांग दिवस मनाया जा रहा है। विकलांग दिवस, विकलांग व्यक्तियों के प्रति करुणा, आत्म-सम्मान और उनके जीवन को बेहतर बनाने के समर्थन के उद्देश्य से मनाया जाता है।