इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर में एक पूर्व बैंक मैनेजर ने जांचकर्ताओं की आंखों में धूल झोंकने की नीयत से अपनी 35 वर्षीय पत्नी के हत्याकांड में मरे कोबरा सांप (dead cobra snake) का इस्तेमाल किया था. पुलिस ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए आरोपी पूर्व बैंक मैनेजर को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) शैलेंद्र सिंह चौहान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर घटना का खुलासा करते हुए कहा कि मुख्य आरोपी अमितेश पटेरिया एक निजी बैंक में मैनेजर रह चुका है. उन्होंने बताया कि पिछले चार साल से जारी पारिवारिक कलह में अमितेश पटेरिया ने अपनी पत्नी शिवानी की कनाड़िया क्षेत्र के घर में एक दिसंबर को कथित तौर पर तकिए से दम घोंटकर हत्या कर दी थी. इसके बाद उसने मरे हुए कोबरा के दांत मृत महिला के हाथ पर गड़ा दिए थे, ताकि वह जांचकर्ताओं के सामने अपने गुनाह पर पर्दा डालते हुए हत्याकांड को सर्पदंश की घटना साबित कर सके.

अलमारी में छिपाकर रखा था सांप


चौहान ने बताया कि हत्याकांड के बाद अमितेश पटेरिया और उसके परिवारवालों ने पुलिस को यही सूचना दी थी कि शिवानी की मौत सांप के काटने से हुई है. हालांकि, पोस्टमॉर्टम की रिपोर्ट से तसदीक हुई कि विवाहिता को दम घोंटकर मारा गया है. उन्होंने बताया, "पटेरिया ने अपनी पत्नी की हत्या से 11 दिन पहले राजस्थान के अलवर से 5,000 रुपये में ब्लैक डेजर्ट प्रजाति का कोबरा सांप खरीदा था. हत्याकांड से पहले उसने इस सांप को अलमारी में छिपाकर रखा था."

कोबरा को भी जान से मार दिया

एएसपी ने बताया कि साजिश के तहत पटेरिया ने अपनी पत्नी के हत्याकांड के दौरान कोबरा को भी जान से मार दिया था. ब्लैक डेजर्ट प्रजाति का कोबरा सांप की हत्या पर उसके खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत भी मामला दर्ज किया गया है. हत्याकांड की साजिश में शामिल होने के आरोप में पटेरिया की बहन रिचा चतुर्वेदी (38) और उसके पिता ओमप्रकाश पटेरिया (73) को भी गिरफ्तार किया गया है. मामले की विस्तृत जांच जारी है.