भोपाल । मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सभी जिला कलेक्टरों को भारी बारिश से जान माल और फसल नुकसान का प्रारंभिक आकलन करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिना किसी विलम्ब के क्षतिपूर्ति राशि दी जा सके। उन्होंने रबी फसलों के लिए खाद की आवश्यकता का आकलन करने के भी निर्देश दिए। बुधवर को मंत्रालय में जनाधिकार कार्यक्रम में वीडियों कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कलेक्टरों से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कलेक्टरों से कहा कि किसानों की ऋण माफी के संबंध में प्राथमिक रिपोर्ट भिजवायें। हर जिले में ऋण माफी से संबंधित समस्या का स्वरूप अलग-अलग है। उन्होंने बिजली बिलों में आने वाली शिकायतों पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए कहा कि आम उपभोक्ताओं की शिकायतें अत्यधिक बिल आने से संबंधित हैं। आपकी सरकार-आपके द्वार कार्यक्रम में ऐसे प्रकरणों का समाधान प्राथमिकता के साथ करें। उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि वे अपने जिलों में जवाबदेही का वातावरण बनायें। 
- वनाधिकार के अस्वीकृत प्रकरणों का निराकरण स्वविवेक से करें
मुख्यमंत्री ने वनाधिकार अधिनियम अंतर्गत तकनीकी कारणों से अस्वीकृत किए गए प्रकरणों की तत्काल समीक्षा कर सकारात्मक निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तकनीकी कमियों से पात्र परिवार वनाधिकार पट्टों से वंचित नहीं रहना चाहिए। कलेक्टर अपने विवेक से भी तकनीकी कमियों को दूर कर सकते हैं। तकनीकी कमियों के कारण अस्वीकृत रह गए प्रकरणों में कलेक्टर जवाबदेही तय की जायेगी। उन्होंने कहा कि आदिवासी परिवारों पर सबूत लाने पर जोर देने से बेहतर है कि स्वविवेक से उनकी मदद करें ताकि उनके प्रकरणों का सकारात्मक निराकण हो सके। -बारिश के बाद सड़कों की मरम्मत तत्काल शुरू करें
मुख्यमंत्री  कमलनाथ ने बारिश खत्म होते ही खराब हुई सड़कों की मरम्मत प्राथमिकता के साथ शुरू करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 20 सितम्बर से काम शुरू कर दें और 20 नवम्बर तक पूरा कर लें। 
मुख्यमंत्री श्री नाथ ने गौ-शालाएँ खोलने और उन्हें संचालित करने के इच्छुक लोगों के आग्रह को देखते हुए कलेक्टरों से कहा कि इस काम को प्रोत्साहित करें। सभी जिले में ऐसे लोग और संस्थाएँ सामने आ रही है जो गौ-शालाएँ खोलना चाहते हैं। आगे बढ़कर उनकी मदद करें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 181 में शिकायतों का संतुष्टिपूर्वक निराकरण करने में जिन अधिकारियों का खराब प्रदर्शन रहा है उनकी सूची बनायें।
मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कई हितग्राहियों के प्रकरणों का समाधान किया। दमोह के  विवेक तोमर, धार के रेवाराम पाटीदार, राजगढ़ की श्रीमती रायला बाई, सागर के घनश्याम अहिरवार, सतना के राम नरेश साहू, अनूपपुर के अजय बैगा, बैतूल के हनुवंत कुशवाहा के प्रकरणों का निराकरण किया और आवश्यक निर्देश दिये।
- एक लाख 30 हजार की कर्ज माफी पर मुख्यमंत्री का आभार
बैतूल के हनुवंत कुशवाहा ने अपने गाँव कोला खापा को पक्की सड़क से जोड़ने की माँग की। पौने तीन किलोमीटर है । उन्होंने बताया कि इसमें नदी के कारण यह रास्ता कठिन हो जाता है। मुख्यमंत्री ने इसका सर्वे कराने के निर्देश दिए। श्री कुशवाहा ने जय किसान फसल ऋण माफी योजना में अपने परिवार पर एक लाख 30 हजार का कर्ज माफ करने पर परिवार की ओर से मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। यह कर्ज उनके पिता पर था। उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि बैंक से ऋण माफी के कागज मिल गए हैं।
अनूपपुर के अजय  बैगा द्वारा राशन नहीं मिलने की शिकायत संबंधी प्रकरण में मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से ऐसे पात्र लोगों की सूची बनाने के निर्देश दिए जो बीपीएल की सूची में शामिल नहीं है । साथ ही ऐसे अपात्र लोगों को भी चिन्हित करें जो बीपीएल की सूची में शामिल है। सागर के घनश्याम अहिरवार के प्रकरण के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन किसानों के ऋण माफी के प्रकरण आनलाइन रिपोर्ट नहीं किए जा सके उनके संबंध में सभी कलेक्टर अपने-अपने जिलों की रिपोर्ट  सात दिन के अंदर दें। धार के रेवाराम पाटीदार को शिकायत निवारण प्राधिकरण के निर्देशों के बावजूद पट्टा मिलने में देरी के प्रकरण में संबंधित बाबू को निलंबित करने और भू-अधिग्रहण अधिकारी की विभागीय जाँच करने के निर्देश दिए।
वीडियों कान्फ्रेंसिंग में मुख्य सचिव एस.आर. मोहंती एवं संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।