भोपालः  छतरपर में आज कलेक्ट्रेट में अजीब स्थिति देखने को मिली, जहां एक विधायक को कलेक्टर ने एक घंटे तक मिलने का समय नहीं दिया. ऐसे में गुस्साए विधायक ने कलेक्टर के खिलाफ आन्दोलन तक करने की धमकी दे दी. दरअसल, बीजेपी के जिले के एकमात्र चंदला सीट के विधायक राजेश प्रजापति जनता के किसी काम को लेकर कलेक्टर मोहित बुंदास के पास गए थे. कलेक्ट्रेट पहुंचने पर उन्होंने चैंबर के बाहर उनसे मिलने के लिए समय मांगा, लेकिन इसके लिए उन्हें सामान्य व्यक्ति की तरह एक घंटे का लंबा इंतजार करना पड़ा. इस पर विधायक राजेश प्रजापति को काफी गुस्सा आया और उन्होंने वहीं अपना गुस्सा जाहिर करना शुरू कर दिया.

राजेश प्रजापति ने कलेक्टर के समय न देने पर नाराजगी जाहिर करते हुए सड़कर पर उतरने और आंदोलन करने की धमकी भी दे डाली और बाद में नाराज होकर कलेक्टर से मिले बिना ही वापस चले गए. ऐसे में अब मोहित बुंदास को हटाने के लिए एक नहीं बल्कि क्षेत्र के पांच विधायक साथ आ गए हैं और उन्हें हटाने की मांग कर रहे हैं. मोहित बुंदास को हटाने के लिए कांग्रेस के चार विधायकों ने भी बीजेपी विधायक राजेश प्रजापति का साथ दिया है. 

इसके अलावा कमलनाथ सरकार को समर्थन देने वाले सपा के एकमात्र विधायक राजेश शुक्ला ने भी छतरपुर कलेक्टर की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं और कलेक्टर के खिलाफ मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर उन्हें हटाने की मांग की है. विधायकों ने जब उनसे फोन पर बात करने की कोशिश की तो उन्होंने इनसे फोन पर बात करने से भी इनकार कर दिया और चिर-परिचित अंदाज में फोन कट कर दिया. इस पर अब छतरपुर के कई विधायक नाराज हैं और मुख्यमंत्री कमलनाथ से नए कलेक्टर की पोस्टिंग की मांग कर रहे हैं. विधायकों का कहना है कि कलेक्टर मोहित बुंदास अक्सर ही मिलने का समय नहीं देते और घंटों इंतजार करवाते हैं.
बता दें कलेक्टर मोहित बुंदास को हटाने के लिए जिन पांच विधायकों ने मोर्चा खोला है, उनमें कांग्रेस विधायक कुंवर विक्रम सिंह नातीराजा, आलोक चतुर्वेदी, प्रद्युमन सिंह लोधी, नीरज दीक्षित, सपा विधायक राजेश शुक्ला और बीजेपी विधायक राजेश प्रजापति शामिल हैं. वहीं बीजेपी विधायक राजेश प्रजापति का आरोप है कि वह विपक्ष से विधायक हैं, इसलिए उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है.