टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह आज विश्व के शीर्ष गेंदबाजों में शामिल हैं। टी20 और टेस्ट के बाद बुमराह ने टेस्ट में भी अपने को साबित किया है। अबतक महज 12 टेस्ट खेलने वाला यह खिलाड़ी रैंकिंग में तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। 5 बार 5 या उससे ज्यादा विकेट लेने का करिश्मा इसने किया है। एक हैट-ट्रिक भी इसके नाम है। कप्तान विराट कोहली उन्हें अपनी टीम में होने को अपनी खुशकिस्मती मानते हैं। बुमराह को बेहतरीन गेंदबाज बनाते हैं उनके ये आंकड़े। 
बुमराह ने 5 जनवरी 2018 यानी दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बुमराह के टेस्ट डेब्यू के बाद भारत ने उपमहाद्वीप के बाहर कुल 14 टेस्ट खेले, जिनमें से 6 में जीत दर्ज की। 7 में हार और एक मुकाबला ड्रॉ रहा। भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर जिन 6 मैचों में भारत को जीत मिली, उनमें अकेले बुमराह ने 42 विकेट झटके। इस दौरान उन्होंने 5 बार पारी में 5 विकेट या ज्यादा का करिश्मा किया।
बुमराह ने विदेशी धरती पर भारतीय तेज गेंदबाजी का नेतृत्व किया। अबतक भारत द्वारा खेले गए सभी टेस्ट मैचों में बुमराह ने ही सबसे ज्यादा विकेट लिए हैं। 5 जनवरी 2018 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ न्यूलैंड्स टेस्ट से टेस्ट डेब्यू करने वाले बुमराह ने उसके बाद से अबतक 12 मैच खेले हैं, जिनमें 62 विकेट लिए हैं। तब से अबतक खेले गए सभी टेस्ट मैचों में किसी भी भारतीय द्वारा लिए गए ये सबसे ज्यादा विकेट हैं।
अबतक महज 12 टेस्ट खेलने वाले जसप्रीत बुमराह एशिया के इकलौते ऐसे गेंदबाज हैं, जिन्होंने वेस्ट इंडीज, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उन्हीं की सरजमीं पर पारी में 5 या उससे ज्यादा विकेट लेने का करिश्मा कर चुके हैं। वेस्ट इंडीज में तो उन्होंने 2 बार इस करिश्मे को किया। इसके अलावा, वह भारत के इकलौते ऐसे तेज गेंदबाज हैं जिन्होंने उपमहाद्वीप के बाहर किसी टेस्ट में जीत के दौरान पारी में पांच-पांच विकेट लिए हों। इस लिस्ट में चंद्रशेखर एकमात्र भारतीय स्पिनर हैं, जिन्होंने 1971 से 1978 के बीच इस तरह का प्रदर्शन किया।