एकदिवसीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने टी20 क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी है। मिताली एकदिवसीय क्रिकेट खेलती रहेंगी।मिताली ने 32 टी-20 मुकाबलों में भारत की कप्तानी की है। इनमें से तीन विश्व कप 2012, 2014 और 2016 भी शामिल हैं। मिताली की कप्तानी में ही भारतीय टीम ने साल 2006 में डर्बी में अपना अपना पहला टी20 मैच खेला था। मिताली ने अपने करियर में 89 टी-20 मुकाबले खेले। इनमें उन्होंने 2364 रन बनाये हैं। मिताली ने 17 अर्धशतक भी लगाए हैं और उनका सबसे ज्यादा स्कोर नाबाद 97 रन है। भारत के लिए सबसे पहले टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 2000 रन बनाने का रिकॉर्ड भी मिताली के नाम ही है।
मिताली ने अपना आखिरी टी-20 मुकाबला इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। इस मैच में उन्होंने 32 गेंद पर 30 रन बनाए थे।
मिताली ने कहा कि अब मैं 2021 में होने वाले एकदिवसीय विश्व कप पर ध्यान देना चाहती हूं। देश के लिए विश्व कप जीतना मेरा सपना है और मैं इसके लिए अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ योगदान देना चाहती हूं। मैं लगातार समर्थन देने के लिए बीसीसीआई का आभार भी व्यक्त करते हुए भविष्य के लिए भारतीय टी-20 टीम को शुभकामनाएं देती हूं।
मिताली की जगह शेफाली को मिली 
15 वर्षीय शेफाली वर्मा को  दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आगामी घरेलू टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट श्रृंखला के लिए भारतीय महिला टीम में शामिल कर लिया गया है। अनुभवी खिलाड़ी मिताली राज के संन्यास लेने के बाद खाली हुई जगह पर शेफाली को अवसर मिला है। शेफाली को महिला टी-20 चैलेंज में अच्छे प्रदर्शन के आधार पर ही जगह मिली है। पांच टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच मैचों के लिए भारतीय टीम की कप्तानी हरमनप्रीत कौर के पास है जबकि उपकप्तान स्मृति मंधाना हैं। वहीं मिताली एकदिवसीय की कप्तान बनी रहेंगी। मिताली ने 89 मैचों के बाद टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला लिया है।