कोलकाता: ऐसे समय जब पूरे देश के लोग चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) को लेकर रोमांचित हैं. हो भी क्यों न. चंद घंटों बाद ही भारत अंतरिक्ष विज्ञान की दुनिया में इतिहास रचने वाला है. चंद्रयान-2 चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग होने वाली है. अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत चांद पर यान उतारने वाला चौथा देश बनने जा रहा है. पूरा देश इस ऐतिहासिक पल का बेसब्री से इंतजार कर रहा है लेकिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को सियासत सूझ रही है. ममता ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार देश की बदहाल अर्थव्यवस्था से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए चंद्रयान-2 का इस्तेमाल कर रही है.

शुक्रवार को कोलकाता स्थित राज्य विधानसभा में अपने संबोधन के दौरान ममता ने कहा कि केंद्र सरकार चंद्रयान मिशन का प्रचार इस तरह कर रही है जैसे कि देश में पहली बार चंद्रयान लॉन्च हुआ हो और नरेंद्र मोदी के सरकार में आने से पूर्व ऐसे मिशन कभी भी शुरू ना हुए हों.
केंद्र सरकार पर राजनीतिक प्रतिशोध का आरोप लगाते हुए ममता ने कहा, "अचानक सभी राजनेता चोर हो गए हैं. चिदंबरम को तिहाड़ जेल भेजा गया है. क्या चल रहा है? मैं तो हैरान हूं कि विपक्षी पार्टियां सरकार के इस कदम का विरोध क्यों नहीं कर रही हैं. सभी खामोश हैं. हमें नहीं पता कि चिदंबरम दोषी हैं या नहीं लेकिन हम कैसे भूल सकते हैं कि वह हमारे वित्त एवं गृहमंत्री थे. कानून अपना काम करेगा लेकिन चिदंबरम को तिहाड़ जेल में नॉर्मल कस्टडी के तौर पर क्यों रखा गया?"