उज्जैन. मध्य प्रदेश कांग्रेस (madhya pradesh) में चल रहे विवाद पर केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर (natendra)का कहना है कि कमलनाथ सरकार (kamalnath)अपने अंतर्कलह से गिर जाएगी और फिर बीजेपी की भूमिका शुरू होगी. उनका कहना है कि ये सारा फसाद इसलिए है क्योंकि दिग्विजय सिंह (digvijay singh)अपनी खोयी हुई ज़मीन तलाश रहे हैं. उन्होंने कमलनाथ सरकार की महाकाल मंदिर विस्तार योजना को हवा-हवाई बताया.

अंतर्कलह से गिरेगी कमलनाथ सरकार

महाकाल के दर्शन के लिए उज्जैन आए नरेन्द्र सिंह तोमर ने ना सिर्फ सीएम कमलनाथ को घेरा बल्कि दिग्विजय सिंह पर भी निशाना साधा.तोमर ने कहा कांग्रेस के पास कुछ नया करने के लिए न विजन है, न इच्छा है और न ही ताकत. इसलिए ड्रामा कर के काम चला रहे हैं. दिग्विजय सिंह अपनी खोई हुई ज़मीन तलाश रहे हैं. इसलिए सारा विवाद खड़ा हुआ है. तोमर बोले,कांग्रेस अपने अंतर्कलह से गिरेगी तब फिर बीजेपी की भूमिका खड़ी होगी.

कहां हैं 300 करोड़-उन्होंने कहा महाकाल मंदिर विस्तार योजना सिर्फ हवा-हवाई है.तोमर ने कहा, महाकाल मंदिर सबका है इसलिए एम पी सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बाबा के दर्शन सबको सुलभ हो. 300 करोड़ की योजना हवा में है. 300 करोड़ कहाँ हैं, इसका पता नहीं है. महाकाल सबके राजा हैं इसलिए किसी को यह नहीं कहना चाहिए की मैं कर रहा हूं.

महाकाल मंदिर में नया प्रोटोकॉल
महाकाल मंदिर में आज से वीआईपी के लिए दर्शन की नयी व्यवस्था लागू कर दी गयी है. नयी व्यवस्था में अब श्रद्धालु सुबह 7. 45 से 9. 45 तक और दिन में 2 से 4 तक गर्भ गृह में जाकर बाबा के दर्शन कर सकेंगे.

आम श्रद्धालुओं के साथ दर्शन- नये नियम लागू होने के बाद केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर मंदिर पहुंचने वाले पहले वीवीआईपी थे. वो 10 बजे महाकाल मंदिर पहुंचे. लेकिन उन्होंने प्रोटोकॉल के तहत मिली सुविधा नहीं ली. वो अपने समर्थकों के साथ दर्शनार्थियों की लाइन में खड़े हुए और अपना नंबर आने पर बाबा के दर्शन किए. प्रोटोकॉल के तहत वो नंदी गृह से दर्शन कर सकते थे लेकिन उन्होंने इसका लाभ नहीं लिया.