बिलासपुर । जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने पार्टी के संस्थापक आज अजीत जोगी के खिलाफ जाति मामले में एफआईआर दर्ज कराने के विरोध में नेहरू चौक में पुतला दहन कर रहे कार्यकर्ताओं और पुलिस के मध्य झूमाझटकी हुई।  शहर अध्यक्ष विश्मंभर गुलहरे ने कहा कि 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने फर्जी प्रमाण पत्र के समस्त प्रकरण की जांच कर खारिज करने हेतु एक महीने की समय सीमा तय किया था और कहा था कि फर्जी प्रमाण पत्र वालों की राजनीति समाप्त कर देंगे उनका स्पष्ट इशारा जोगी जी की ओर था। अजीत जोगी की समस्त आपत्तियों को खारिज करते हुए समिति ने मात्र 14 दिनों में ही अपना एकतरफा फैसला सुना दिया। छानबीन समिति उच्च न्यायालय के आदशों की अवहेलना के साथ-साथ प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत का भी पालन नहीं किया। जिसके विरोध में नेहरू चौक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पुतला दहन किया गया।