मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के गवालियर (Gwalior) जिले में गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) के मौके पर सभी गणेश मंदिरों में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा हुआ है. गणेश उत्सव का पर्व आस्था (Faith) के साथ बड़े ही हर्षोल्लास (Cheerfulness) के साथ मनाया जा रहा है.

मोटे गणेश जी का मंदिर बना आस्था का बड़ा केंद्र

शहर के तमाम गणेश मंदिरों में सोमवार सुबह विशेष पूजा अर्चना के साथ गणेशोत्सव का शुभारंभ हुआ. गणेशोत्सव के पहले दिन गणेश चतुर्थी पर शहर के प्राचीन गणेश मंदिरों में भगवान गणेश का विशेष श्रंगार (Special dressing) किया गया. इस दौरान ग्वालियर के खासगी बाजार (Khasgi Bazar) में मोटे गणेश जी का मंदिर (Temple of mote ganesh ji, Gwalior) भक्तों की आस्था का बड़ा केंद्र बना हुआ है. यही वजह है मोटे गणेश जी के मंदिर में गणेश चतुर्थी पर भक्तों का हर साल तांता लगता है.

दूर-दूर से आ रहे भक्त

बहरहाल, गणेशोत्सव के पहले दिन की शुरुआत गणेश जी के विशेष श्रंगार और पूजा अर्चना के बाद विधिवत आरती से की गई. मोटे गणेश जी के मंदिर में सुबह से ही भक्तों का आना शुरू हो गया है. दूर-दूर से भक्त मोटे गणेश जी के दर्शन करने के लिए मंदिर पहुंच रहे हैं.

300 साल पुरानी है मंदिर

मंदिर पहुंच रहे श्रद्धालु भगवान गणेश की पूजा अर्चना (Worship ) कर मन्नत (Wish) मांग रहे हैं. उनका मानना है कि मोटे गणेश जी का मंदिर 300 साल पुराना है, इसलिए इस मंदिर में भक्त द्वारा मांगी गई हर मन्नत पूरी होती है.