नई दिल्ली । केन्द्रीयस्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी-पीएमजेएवाई)के कार्यान्वयन की उच्च-स्तरीय समीक्षा की। इस दौरान डॉ. हर्षवर्धन ने कहा,‘मुझे यह जानकर प्रसन्नता हो रही है कि एबी-पीएमजेएवाईके प्रारंभ होने के बाद से ३९ लाख से अधिक लोगों ने गंभीर बीमारियों के लिए ६,१०० करोड़ रुपये मूल्य सेअधिक राशि के कैशलेस उपचार का लाभ उठाया है। इससे लाभार्थी परिवारों को १२,००० करोड़रुपये की बचत हुई है।’स्वास्थ्य मंत्री ने योजना की प्रगति की सराहना की, क्योंकि इसकोप्रारंभहुए एक वर्ष पूरा होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने देश के सबसे गरीब और सबसे कमजोर लोगों के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए योजना की परिकल्पना की है।उन्होंने जोर देकर कहा, 'हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारे प्रिय और प्रेरणादायक प्रधानमंत्री का विजन साकार हो सके। डॉ.हर्षवर्धन ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि देश भर में इसके कार्यान्वयन के दौरान इस प्रारंभिक गति को बनाए रखा जाए और राज्य अपनी प्रगति को बढ़ाने और अंतिम व्यक्ति तक निर्बाध स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में अपना व्यापक बल और दक्षता का उपयोग करें। डॉ. हर्षवर्धन ने एबी-पीएमजेएवाईका नया शिकायत प्रबंधन पोर्टल भी लॉन्च किया। यह आम जनता को शिकायतें को दर्ज करने और सहायता प्राप्त करने में मदद करने के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली है।
    डॉ. हर्षवर्धन ने योजना की पहली वर्षगांठ की तैयारियों को भी मंजूरी दी। इसकी वर्षगांठ को मनाने के लिए देश भर में कई आयोजन किए जा रहे हैं। २३ सितंबर को आयुष्मान भारत दिवस के रूप में मनाया जाएगा। १५ - ३० सितंबर के पखवाड़े को ‘आयुष्मान भारत पखवाड़ा’ के रूप में चिह्नित किया जाएगा। इस दौरान राज्यों में इस योजना के बारे में जागरूकता फैलाने और राष्ट्र को स्वास्थ्य के इस उपहार का जश्न मनाने के लिए कई गतिविधियाँ आयोजित की जाएंगी। एबी-पीएमजेएवाईकी प्रगति और उपलब्धियों पर प्रकाश डालने के लिए २९ से ३० सितंबर को नई दिल्ली में एक विशाल राष्ट्रीय कार्यक्रम 'ज्ञान संगम' का आयोजन किया जाएगा।