मुंबई। भारतीय रेल के रेल सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने रेलवे परिसर, परिसंचारी क्षेत्र, पार्किगों और यहां तक पार्किंग कि नो पार्किंग ’क्षेत्रों में लंबी अवधि के लिए सभी वाहनों की पहचान और सत्यापन के लिए एक कोड नाम - ऑपरेशन“ नंबर प्लेट ”के साथ एक विशेष अभियान चलाया। अरुण कुमार, महानिदेशक/आरपीएफ के निर्देशन में स्थानीय पुलिस और रेलवे के वाणिज्यिक विभाग के सक्रिय सहयोग यह अभियान चलाया गया। अज्ञात वाहनों को यात्रियों और रेलवे के अन्य हितधारकों की तथा यात्रियों और सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा माना जाता है। यह विशेष रूप से 15 अगस्त 2019 को स्वतंत्रता दिवस के आगामी समारोह के मद्देनजर आयोजित किया गया है। यह विशेष अभियान 9 अगस्त से 11 अगस्त तक पूरे भारतीय रेलवे में 466 रेल स्टेशनों पर चलाया गया। ड्राइव के दौरान 04 वाहन बरामद किए गए थे जो चोरी होने की सूचना दी गई थी और पुलिस द्वारा पहले भी मामले दर्ज किए गए थे। 3943 वाहन रेलवे स्टेशनों के अधिकृत पार्किंग स्थल में 05 दिनों से अधिक समय से लावारिस पाए गए थे। संदिग्ध 894 ऐसे वाहनों का सत्यापन किया जा रहा है और जांच के परिणाम के अनुसार उपयुक्त कार्रवाई की जाएगी। इसी तरह 01 दिन से अधिक समय के लिए 2034 वाहनों को ’नो पार्किंग’ क्षेत्र में पार्क किया गया। 28 एसे वाहनों का क्रेडेंशियल सत्यापन, जिन पर संदेह है, उनसे पूछताछ की जा रही है। ऑपरेशन के दौरान 549 वाहनों को टो किया गया और आगे की जांच के लिए पुलिस के पास जमा किया गया। अनधिकृत पार्किंग के लिए रुपये 59000/- जुर्माने के रूप में वसूल किये गये।
- मध्य रेल मुंबई मंडल पर अभियान
यह अभियान मध्य रेल मुंबई मंडल पर अतुल पाठक, प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त, मध्‍य रेल और के.के.अशरफ, मुंबई मंडल के सीनियर डीएससी के मार्गदर्शन में चलाया गया जिसमें नो पार्किंग एरिया में 114 वाहन एक दिन से अधिक समय तक पार्क पाये गये और  40 वाहन नो पार्किंग क्षेत्र में 5 दिनों से अधिक समय तक पार्क पाये गये। उपरोक्त वाहन सीएसएमटी, भायखला, एलटीटी, कुर्ला, ठाणे, डोंबिवली, कल्याण, बदलापुर, अंबरनाथ, मानखुर्द इत्यादि महत्वपूर्ण स्टेशनों पर पाये गये और रूपये 26,140/- की राशि शुल्‍क के रूप में वसुल की गई। पुलिस ने पनवेल, रोहा, भायखला और डोंबिवली स्टेशनों से 16 वाहनों को टो किया।