जबलपुर। कुंडम अस्पताल में स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा किया। दरसल एक शिक्षक सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसे कुंडम अस्पताल लाया गया। अस्पताल में कोई भी चिकित्सक मौजूद नहीं था। उपचार मिलने में हुई देरी के चलते शिक्षक की मौत हो गई। जिसके बाद परिजनों और स्थानीय लोगों ने थाने में हंगामा शुरू कर दिया। इसकी जानकारी लगते ही थाना प्रभारी और तहसीलदार मौके पर पुलिस बल के साथ पहुंच गए। उन्होंने परिजनों और लोगों को शांत कराने का प्रयास किया।
जानकारी के अनुसार शिक्षक तुलाराम मार्को भनपुरा से स्कूल जा रहे थे। रास्ते में किसी अज्ञात ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। हादसे में तुलाराम को गंभीर चोटें आईं। जिसके बाद उन्हें कुंडम अस्पताल पहुंचाया गया। जहां कंपाउंडर ने उन्हें प्राथमिक उपचार दिया और कहा कि डॉक्टर जल्दी आने वाले हैं। रात भर शिक्षक अस्पताल में भर्ती रहा। सुबह उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। जिसके बाद परिवार वालों ने हंगामा शुरू कर दिया। देखते ही देखते सैकड़ों की संख्या में लोग अस्पताल पहुंच गए और कार्रवाई की मांग करने लगे।
टीआई की बात पर भड़के ग्रामीण ...........
अस्पताल में हंगामे की खबर लगते ही थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। परिजनों ने सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन करने की बात कही तो टीआई भड़क गए। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन करने की नौटंकी न करें। त्यौहार सर पर है, माहौल खराब हो सकता है। टीआई की बात से ग्रामीण और भड़क गए। वे सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन करने पर अड़ गए। काफी देर तक चली गहमा-गहमी के बाद लोग शांत हुए।