बिलासपुर । गुरु घासीदास विश्वविद्यालय की जीव विज्ञान अध्ययनशाला के जैव प्रौद्योगिकी विभाग में स्मार्ट क्लास में पर्यावरण जागरूकता विषय पर लघु कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन बस्तर सांसद दीपक वैज, सदस्य सचिव, छत्तीसगढ प्रर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम का विषय ‘‘प्लास्टिक हटाओ जीवन बचाओ‘‘ के अन्तर्गत प्लास्टिक पर जनजागृति अभियान था। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नासिक, महाराष्ट्र के मिलिन्द काशीनाथ पगारे एवं समन्वयक शेखर सूबेदार थे। सर्वप्रथम जैव प्रौद्योगिकी विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. रेणु भट्ट द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया।  मिलिन्द ने जीव विज्ञान संकाय के 150 छात्र/छात्राओं को संबोधित करते हुए पर्यावरण से संबंधित बहुमुल्य व्याख्यान प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि कैसे हमारा जन-जीवन प्लास्टिक से घिरा हुआ है और यदि हमने इसे नहीं रोका तो आने वाले समय में इस प्लास्टिक से दब जाएंगे। उन्होंने अपने व्याख्यान में विभिन्न वीडियों द्वारा बताया कि दुनिया में सबसे ऊंची जगह माउंटएवरेस्ट से लेकर सबसे नीची जगह समुद्र तल तक कैसे हम प्लास्टिक कचरे से घिरे हैं। इन प्लास्टिक कचरों से बचने के विभिन्न निदान पर भी उन्होंने प्रकाश डाला। 
5 तरीकों के इस्तेमाल से मिलेगी राहत
उन्होंने अपने व्याख्यान में बताया कि हम पांच तरीकों का इस्तेमाल कर इन कचरों से राहत पा सकते हैं। हमें इसके लिए सबसे पहले प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करना होगा और प्लास्टिक को रिसाइकिल करना होगा। इंदौर का वीडियो दिखाते हुए बताया कि कैसे इंदौर में कचरा वर्गीकरण सूखा और गीला और डोमेस्टिक वेस्ट को अलग कर रिसायकल किया जाता है। कैसे प्लास्टिक बोतलों को इस्तेमाल कर कोई बिल्डिंग बना सकते हैं इस तरह हम प्लास्टिक रिसाइकिल कर वातावरण को प्लास्टिक फ्री बना सकते हैं। अंत में विभाग के सहायक प्राध्यापक डा. धर्मेन्द्र कुमार परिहार ने माननीय अतिथि को धन्यवाद ज्ञापित किया। अधिष्ठाता अध्ययनशाला जीव विज्ञान प्रो. बी.एन. तिवारी एवं विभााग के अन्य सदस्य डा. हरित झा, एवं डा. एस.के. साही, विभागाध्यक्ष, वनस्पति शास्त्र विभाग ने भी इस विषय पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के शिक्षकगण एवं विद्यार्थी उपस्थित थे।