पटनाः जेडीयू को एनडीए से अलग होने की राय देनेवाली आरजेडी जल्द ही टूट जाएगी. यह दावा एनडीए के नेताओं ने किया है. हालांकि, आरजेडी ने इस दावे को खारिज किया है. और कहा कि एनडीए के नेता ही आरजेडी के संपर्क में हैं.

आरजेडी हमेशा से जेडीयू को एनडीए से अलग हो जाने की सलाह देती रहती है. आरजेडी का कहना है कि जेडीयू को एनडीए में तबज्जो नहीं मिल रहा है. साथ ही कई नेता जेडीयू को सलाह दे रही है कि वह आरजेडी के साथ आ जाएं. दरअसल, कई मौकों पर जेडीयू के विचार बीजेपी से अलग रहे हैं. जिसके बाद हमेशा आरजेडी जेडीयू को अलग होने की सलाह देती है.

हालांकि, अब बीजेपी और जेडीयू का कहना है कि आरजेडी अब जल्द ही टूट जाएगी. जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि आरजेडी का टूटना तय है. अब इस पार्टी का कोई भविष्य नहीं है. आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव सजायाफ्ता हैं और तेजस्वी यादव विपक्ष नेता होने के बावजूद गायब रहते हैं.

राज्य में बाढ़ और चमकी बुखार जैसी त्रास्दी होने के बाद भी विपक्ष नेता की बैठकों में शामिल नहीं होते हैं. तेजस्वी यादव की पहचान अब गायब रहने वाले नेताओं के तौर पर होने लगी है. और लालू यादव की विरासत को तेजस्वी यादव संभालने में सक्षम नहीं है. इसलिए आरजेडी की नाव जल्द ही डूबने वाली है.

बीजेपी के प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि लोकसभा चुनाव में आरजेडी बड़ी पराजय हुई है. अब पार्टी के लोग घबराए हुए हैं और सुरक्षित जगह तलाश रहे हैं. देश और राज्य के विकास के साथ एनडीए में ऐसे नेताओं का स्वागत है.

हालांकि, आरजेडी ने जेडीयू और बीजेपी के दावे को सिरे से खारिज कर दिया है. पार्टी के प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने कहा की जेडीयू और बीजेपी के विधायक आरजेडी के सम्पर्क में है. आने वाले समय में यह दोनों पार्टियां डूबती हुई नाव हैं.