इस्लामाबाद । कश्मीर में धारा 370 को खत्म करने से बौखलाए पाकिस्तान ने बुधवार को भारत के साथ राजनयिक संबंधों को कम करने के कुछ ही देर पश्चात अपने हवाईक्षेत्र को भी आंशिक रूप से बंद कर दिया है। इसके अलावा विदेशी विमानों के पाकिस्तान में उड़ान की ऊंचाई भी बढ़ा दी गई है। साथ ही, एयरलाइन्स के हवाई मार्गों में भी बदलाव किए गए हैं। ज्ञात हो कि बुधवार को भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार खत्म किए जाने और राजनयिक संबंधों को डाउनग्रेड करने के बाद ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि पाकिस्तान भारत के फ्लाइट्स के लिए अपने एयरस्पेस बंद कर सकता है। पाकिस्तान ने यह फैसला जम्मू-कश्मीर में भारत सरकार द्वारा आर्टिकल 370 के प्रावधानों को हटाने के विरोध में लिया है। पाकिस्तान की सिविल एविएशन अथॉरिटी द्वारा जारी नोटिस टू एयरमैन (एनओटीएएमएस) के मुताबिक, एयरस्पेस 6 अगस्त से 5 सितंबर तक के लिए बंद रहेंगे। इसके अलावा सीसीए ने पाकिस्तान की एयरलाइन्स के हवाई मार्गों में भी बदलाव किए हैं। इनमें खासतौर पर लाहौर क्षेत्र के एयरलाइन्स शामिल हैं। पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, विमानों के उड़ान की न्यूनतम ऊंचाई को भी बढ़ाया गया है।
एनओटीएएम के मुताबिक, लाहौर रीजन में विदेशी विमानों को 46 हजार फीट से नीचे उड़ने की अनुमति नहीं होगी, जबकि अफगानिस्तान से उड़ान भरने वाले जहाजों को वैकल्पिक मार्गों के इस्तेमाल करने का निर्देश दिया गया है। मालूम हो कि पाकिस्तान ने बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद भी अपने एयरस्पेस बंद किया था, जिसे 16 जुलाई को सभी विमानों के लिए खोला गया था। बता दें कि भारत सरकार ने संसद के दोनों सदनों में जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन और आर्टिकल 370 के प्रावधानों को हटाने के लिए संकल्प पेश किया था, जिसे दोनों सदनों के अलावा राष्ट्रपतिकी भी मंजूरी मिल गई। इसके बाद से पाकिस्तान बौखला गया है। प्रतिक्रियास्वरूप बुधवार को उसने भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार को सस्पेंड कर दिया है। इसके अलावा उसने भारत के साथ डिप्लोमैटिक रिलेशंस को डाउनग्रेड कर दिया है। बुधवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने नेशनल सिक्यॉरिटी कमेटी (एनएससी) की बैठक बुलाई थी, जिसमें ये फैसले लिए गए।