रक्षाबंधन के पर्व पर इस बार मुहूर्त की कोई चिंता नहीं है। बहनें अपने भाईयों को सुबह से लेकर शाम तक राखी बांध सकती है। भाई बहन के पवित्र प्रेम के प्रतीक का त्योहार रक्षाबंधन इस बार 15 अगस्त गुरुवार को मनाया जा रहा है। इस बार काफी लंबे समय के बाद राखी के मौके पर शुभ मुहूर्त काफी लंबा है। कई सालों के बाद ऐसा होगा जब राखी के मौके पर भद्रा का साया नहीं होगा। राजधानी के ज्योतिचार्य की माने तो भद्रा में राखी बांधना शुभ नही माना गया है। हालांकि, भद्रा को हमेशा ही अशुभ नहीं माना जाता है। शुभ मुहुर्त इस बार सुबह 5 बजकर 49 मिनट से शुरू होगा और शाम 05ः58 बजे तक बहनें अपने भाई को राखी बांध सकती हैं। वैसे, सुबह 6 से 7ः30 बजे और सुबह 10ः30 बजे से दोपहर 3 बजे तक राखी बांधने का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त है। 
    सावन के पूर्णिमा तिथि की शुरुआत 14 अगस्त दोपहर बाद 3ः45 से ही हो जाएगी और इसका समापन 15 अगस्त शाम 5ः58 बजे को होगा। हर किसी के जीवन में हर रंग का अलग महत्व होता है।ज्योतिचार्यों का कहना है कि इसी के आधार पर यदि आप राशि के मुताबिक अलग अलग रंगों की राखियां अपने भाई की कलाई पर बंधते हैं तो उसका अलग ही महत्व होगा और भाई को आने बाले दिनों में सफलता दिलाएगा। मालूम हो कि हर साल सावन के आखिरी दिन मनाए जाने वाले इस त्योहार के मौके पर बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं और भाई की लंबी उम्र की कामना के साथ साथ उससे अपनी रक्षा का वचन लेती है।