रायपुर। बच्चों के लिए 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी-2019 का आयोजन छत्तीसगढ़ में किया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एन.सी.ई.आर.टी.) के सहयोग से छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित बी.टी.आई. ग्राउंड में 15 अक्टूबर से 20 अक्टूबर तक राष्ट्रीय प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा।
प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी की अध्यक्षता में आज सिविल लाईन स्थित छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के स्टेट डाटा सेंटर में आयोजन की तैयारियों के संबंध में बैठक आयोजित की गई।
बैठक में बताया गया कि प्रदर्शनी में देशभर के लगभग 200 मॉडल प्रदर्शन के लिए आएंगे। प्रदर्शनी के मॉडल का विषय ‘जीवन की चुनौतियों के लिए वैज्ञानिक समाधन‘ पर आधारित होगा। उप विषयों में कृषि एवं जैविक खेती, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, संसाधन प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, परिवहन और संचार और गणितीय प्रतिरूपण को भी सूचीबद्ध किया गया है। प्रदर्शनी में देशभर से लगभग 400 विद्यार्थी और 200 शिक्षकों की प्रतिभागिता होगी। जिसमें बच्चों के मॉडल को स्थानीय विद्यालयों के विद्यार्थी प्रत्येक दिन देखने आएंगे और चर्चा करेंगे। इसके अतिरिक्त प्रदर्शनी में स्थानीय स्तर के लगभग 200 विद्यार्थी, शिक्षक और विभिन्न व्यवस्थाओं में संलग्न 100 अन्य व्यक्ति उपस्थित रहेंगे। प्रदर्शनी के अतिरिक्त प्रतिदिन सम-सामायिक और अन्य विषयों पर ख्यातिलब्ध वैज्ञानिकों का व्याख्यान भी होगा। प्रदर्शनी के अंतिम दिन देशभर से आए प्रतिभागियों को राज्य के प्रमुख स्थलों का भ्रमण भी कराया जाएगा।
प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी ने बैठक में कहा कि राष्ट्रीय प्रदर्शनी में सभी जिलों से चयनित बच्चों को बुलाया जाए। इस संबंध में संचालक लोक शिक्षण को सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर जिलों में विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन कर कक्षा नवमीं से बाहरवीं तक के विद्यार्थियों का चयन करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार निजी स्कूलों के 50-60 बच्चों का चयन कर उन्हें भी प्रदर्शनी दिखाई जाए। संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के अधिकारी को छत्तीसगढ़ी संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए निर्देश दिए।
श्री द्विवेदी ने कहा कि राष्ट्रीय प्रदर्शनी में पूणे के उन 5 बच्चों को भी आमंत्रित किया जाए जिन्होंने गत वर्ष छोड़े गए 105 सैटेलाईट में विशेष योगदान दिया। इसी प्रकार इसरो के वैज्ञानिकों को भी आमंत्रित करने का प्रयास करें। इसके अतिरिक्त विज्ञान प्रदर्शनी के माध्यम से उत्कृष्ठ योगदान देने वाले 6-7 बच्चों को भी आमंत्रित किया जाए।
बैठक में उपस्थित कलेक्टर रायपुर डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि जिला स्तर पर बैठक लेकर आयोजन के संबंध में सभी आवश्यक व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी तय करके अवगत करायेंगे। बैठक में राष्ट्रीय प्रदर्शनी की प्रारंभिक तैयारी के लिए सुरक्षा व्यवस्था, परिवहन, पेयजल, स्वच्छता, अग्निशमन, स्वास्थ्य, उद्यानिकी, विद्युत, सांस्कृतिक कार्यक्रम, पर्यटन भ्रमण, भोजन एवं आवास, प्रचार-प्रसार और अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में कार्यवाही करने के लिए संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया।
बैठक में संचालक लोक शिक्षण एस. प्रकाश, संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद पी.दयानंद, संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा सौरव कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर शेख आरीफ हुसैन, अतिरिक्त संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद डॉ. सुनिता जैन, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एन.सी.ई.आर.टी.) में विज्ञान एवं गणित शिक्षा विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर दिनेश कुमार, डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव सहित स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।