इन्दौर । इन्दौर जिले में महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने  के लिए रोजगार मूलक गतिविधियों से  जोड़ा जा रहा है। जिले में महिलाओं को समूह के रूप में एकत्रित कर उन्हें रोजगार के साधन उपलब्ध कराये जा रहें है। महिलाएं अब संगठित होकर पहले की तुलना में अधिक आमदानी प्राप्त करने के लिए अग्रसर हो रही हैं। संगठन में ही शक्ति है इस बात को इन्दौर जिले में चरितार्थ किया जा रहा है।
ऐसा उदाहरण इन्दौर जिले में देपालपुर जनपद पंचायत के ग्राम माचला में देखने को मिल रहा है। इस ग्राम पंचायत में रहने वाली महिलाओं को आजीविका मिशन के अंतर्गत एकत्रित किया गया और इनका राधाकृष्ण आजीविका स्वयं सहायता समूह बनाया गया। इन महिलाओं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने की कार्यवाही शुरू की गई। इन्हें मछली पालन गतिविधियों के लिए तैयार किया गया। आय बढ़ाने  के लिए दो हेक्टेयर का तालाब 10 वर्षो के लिए इन्हें उपलब्ध कराया गया। इस तालाब में पूरे वर्ष पानी रहता है। समूह बसंती बाई, नर्मदा बाई, ललिता, रेखा, किरण, शारदा, राजू बाई, प्रेम बाई, संगीता तथा अंजू को सदस्य मनाया गया। इन्हें प्रशिक्षण भी दिया गया है। यह महिलाएं अब मछली पालन करेगें और आर्थिक रूप से आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर होगी। अपने उज्जवल भविष्य के लिए आशांवित है और खुश है कि अब हमें रोजगार के बेहतर अवसर मिले है। हम इस अवसर का लाभ उठाएंगें और बेहतर भविष्य का निर्माण करेगें।