इन्दौर । हम शपथ लेते हैं कि इन्दौर को चोथे वर्ष भी स्वच्छता में देश में पहले स्थान पर लाने के लिये अपने अपने स्तर पर प्रयास करेंगे। नगर निगम द्वारा किये जा रहे प्रयासों में एक नागरिक के रूप में हमारी जो भी जिम्मेदारी है, उसे पूरी ईमानदारी से करेंगे ताकि स्वच्छ भारत अभियान का स्वप्न पूरा हो सके. सेंट रेफल्स कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में संचालित राष्ट्रीय सेवा योजना की छात्राओं ने उक्त संकल्प लेते हुये बताया कि उन्होने इन्दौर को पोलिथीन और डिस्पोजल मुक्त करने के अभियान को सफल बनाने के तहत पोलिथीन और डिस्पोजल का उपयोग करना बंद कर दिया है। विद्यालय की उप प्राचार्या सिस्टर विल्सा जोसेफ ने बताया कि विद्यालय पोलिथीन मुक्त है तथा यहां की सभी छात्राओं को प्रेरित किया गया है वे पोलिथीन और डिस्पोजल का उपयोग नहीं करें। 
राष्ट्रीय सेवा योजना के घोषित कार्यक्रमों के तहत विद्यालय में स्वच्छता पखवाड़ा के शुभारम्भ अवसर आयोजित कार्यक्रम में छात्राओं को सूचना और प्रसारण मंत्रालय के क्षेत्रीय लोक सम्पर्क ब्यूरो के सहायक निदेशक मधुकर पवार ने स्वच्छता की शपथ दिलाई। इस अवसर पर पवार ने कहा कि स्वच्छता हमारी आदत बन गई है। अब सबसे बड़ी चुनौती यह है कि इन्दौर को स्वच्छता में देश में पहले स्थान पर कैसे रखा जाये। उन्होने बताया कि घरों से निकलने वाले गीले और सूखे कचड़े के साथ जैव अपशिष्ट के निपटान की व्यवस्था नगर पालिक निगम द्वारा की गई है। ई-वेस्ट को अलग रखें और इसे किसी अधिकृत कबाड़ी को ही दें। उन्होने कहा कि घरों से निकलने वाले गीले कचड़े से घर में खाद बना सकते हैं। पवार ने केंद्र सरकार द्वारा शुरू किये गये जल शक्ति अभियान के बारे में भी बताया। कार्यक्रम में विद्यालय की प्राचार्या सिस्टर जेंसी जोसेफ और राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई की कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती राजबाला वर्मा तथा अन्य शिक्षिकायें मौजूद थीं।