नई दिल्ली । हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो सप्ताह में व्यक्ति के लिए ढाई से पांच घंटे की हल्की एक्सर्साइज और डेढ़ से ढाई घंटे की एक्सर्साइज पर्याप्त होती है। यह बॉडी मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने के साथ ही मसल्स व बोन्स को स्ट्रॉन्ग बनाती हैं। किस व्यक्ति के लिए कितनी एक्सर्साइज ज्यादा है यह काफी कुछ उसके शरीर और हेल्थ कन्डिशन पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए यदि व्यक्ति रनर है तो हो सकता है कि वह रोज पांच घंटे प्रैक्टिस करे और उसे इससे कोई साइड इफेक्ट न हों, वहीं आम व्यक्ति यदि रोज ऐसा करता है तो हो सकता है उसे बीपी से लेकर हड्डियों व मसल्स से जुड़ी समस्याएं सामने आने लगे। शरीर की क्षमता या जरूरत से ज्यादा एक्सर्साइज के कारण कई तरह की समस्याएं सामने आ सकती हैं। जैसे व्यक्ति की दिल की धड़कन प्रभावित होना, भूख कम लगना, पैरों में कमजोरी बने रहना और शरीर में पानी की कमी। एक्सर्साइज शरीर के मेटाबॉलिज्म को तेज करती है। यदि व्यायाम सही मात्रा में रहे तो मेटाबॉलिज्म पर पॉजिटिव असर पड़ता है लेकिन अगर यह सीमा से ज्यादा हो जाए तो खाना बहुत तेजी से पचने लगता है जिससे व्यक्ति की भूख बढ़ जाती है। डायट बढ़ने से उसका वजन भी कम होने की जगह बढ़ने लगता है। एक्सर्साइज को खुद को फिट रखने के साथ ही वजन कम करने का सबसे सही तरीका माना जाता है। यही वजह है कि आजकल यूथ अपनी सेहत को बनाए रखने के लिए जिम का सहारा लेने लगे हैं। लेकिन अगर आप वेट लॉस के लिए ज्यादा एक्सर्साइज करने में यकीन करते हैं तो जान लें कि यह आपको हेल्थ से जुड़ी समस्याएं देने के साथ ही और वजन बढ़ने का कारण बन जाएगा।