रायपुर। गुढ़ियारी स्थित बंलेश्वरी नगर में मर्चेंट नेवी के इंजीनियर की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। घटना का मुख्य आरोपित लवकुश शुक्ला फिल्म में अपना कैरियर बनाना चाह रहा था, लेकिन पैसे की कमी के चलते वह एडमिशन नहीं ले पा रहा था। इंजीनियर की पत्नी पति को मौत के घाट उतारने के लिए मुख्य आरोपित को पुणे की एक्टिंग क्लास में एडमिशन का खर्च उठाने तथा दूसरे आरोपित को पांच लाख रुपए की सुपारी दे दी। दोनों आरोपित इंजीनियर को सोते समय उसके सिर पर हथौड़े से वार कर फरार हो गए। इंजीनियर बुरी तरह जख्मी हो गए थे।
परिजन उन्हें उपचार के लिए डीकेएस अस्पताल ले गए, जहां पर उन्होंने दम तोड़ दिया। रायपुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि इंजीनियर के. विश्वनाथ शर्मा की मौत की जानकारी डीकेएस अस्पताल में मिली। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू की, लेकिन किसी प्रकार का कोई सुराग हाथ नहीं लग रहा था।
इसी बीच जांच टीम को सूचना मिली कि इंजीनियर की पत्नी का पति से अक्सर विवाद हुआ करता था। शराब के नशे में पति और पत्नी के बीच आए दिन मारपीट होती थी। इस पर पुलिस ने मृतक की पत्नी से पूछताछ की तो उसने पहले पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की, लेकिन बाद में पुलिस को उसने बताया कि उसने अपने किरायेदारों के साथ मिलकर पति के सिर पर लकड़ी के हथौड़े से प्रहार कराकर हत्या की घटना को अंजाम दिया।
आरोपित और महिला की ऐसी हुई जान-पहचान 
पुलिस ने बताया कि आरोपित लवकुश शुक्ला दुबे कॉलोनी में रहता है। वह हिम क्रीम आइसक्रीम का पार्टनर है। वह दुबे कॉलोनी स्थित जिस मकान में रह रहा है, वह इंजीनियर की पत्नी का मकान है, इसलिए दोनों की एक-दूसरे से जान-पहचान थी।
अक्सर विवाद की वजह से पति की दी सुपारी 
पति के. विश्वनार्थ शर्मा मर्चेट नेवी में पदस्थ था। पत्नी अपने पति की शराबखोरी से परेशान रहती थी तथा हमेशा दोनों में विवाद होता रहता था। इस पर आरोपिता ने पति की हत्या करने की योजना बना डाली।
योजना के मुताबिक आरोपिता के. वमसी लता ने अपने दुबे कालोनी पंडरी स्थित मकान के किरायेदार लवकुश शुक्ला को अपने पति के.विश्वनाथ शर्मा की सुपारी देते हुए बताया कि तुमको एक्टिंग सीखनी है, इसमें कैरियर बनाना है, इसलिए घटना को अंजाम देने के बाद तुम्हारा एडमिशन पुणे के एक्टिंग क्लास में करा दूंगी, उसमें आने वाला खर्च सब मैं दे दूंगी।
वहीं घटना में शामिल दूसरे व्यक्ति अवनीश यादव को भी पांच लाख रुपए कैश दे देंगे। घटना की साजिश इस तरह बनाई गई, जिससे लगे कि गिरने से चोट लगी है और मौत हो गई। घटना को अंजाम देने के लिए आरोपित लवकुश शुक्ला ने अपने अधीनस्थ काम करने वाले अवनीश यादव को इस योजना में शामिल किया।
योजना के मुताबिक दिया घटना को अंजाम 
इंजीनियर की पत्नी ने घटना की रात पहले से ही घर का मुख्य दरवाजे को खोज रखा था। लवकुश शुक्ला (27) और अवनीश यादव (20) आधी रात को कमरे में घुसे। इसके बाद वे लकड़ी के हथौड़े से इंजीनियर के. विश्वनाथ शर्मा के सिर पर ताबड़तोड़ वार कर भाग गए।
सुबह इंजीनियर की नाबालिग बेटी जब पढ़ाई करने के लिए उठी, तब उसने देखा कि पिता कमरे में बिस्तर पर खून से लथपथ पड़े हैं। उसने दूसरे कमरे में सो रही अपनी मां और भाई को इसकी सूचना दी, जिस पर आनन-फानन में डॉक्टर बुलाया गया।
उस समय इंजीनियर के.विश्वनाथ शर्मा की सांसें चल रही थीं। परिजन तत्काल उन्हे डीकेएस अस्पताल लाया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। पुलिस ने घटना के दौरान उपयोग की गई एक्टिवा, पांच मोबाइल फोन बरामद किए हैं। पुलिस ने तीनों आरोपितों को धारा 302 के तहत गिरफ्तार कर लिया है।