नई दिल्ली: वेस्टइंडीज दौर के लिए रविवार को भारतीय टीम का ऐलान कर दिया है. विराट कोहली (Virat Kohli) तीनों फॉर्मेट में भारत के कप्तान होंगे. वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत को दो टेस्ट, तीन वनडे और तीन टी-20 मैच खेलने हैं. अजिंक्य रहाणे टेस्ट टीम के उपकप्तान होंगे जबकि सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा को वनडे और टी-20 टीम का उपकप्तान चुना गया है. विकेटकीपर-बल्लेबाज रिद्धिमान साहा की टेस्ट टीम में वापसी हुई है जबकि ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या को आराम दिया गया है. युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ चोटिल होने के कारण टीम से बाहर रहेंगे. टीम में कई खिलाड़ियों की वापसी हुई तो कुछ की छुट्टी कर दी गई है.

नंबर-4 पर एक बेहतरीन बल्लेबाज को न ढूंढ़ पाने के कारण संजय बांगर को भी तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा है. उधर, सोशल मीडिया यूजर्स मयंक और शुभमन को मौका न देने पर मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद समेत बीसीसीआई को ट्रोल करने में लगे हैं.
तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को पहली बार वनडे और टी-20 टीम में शामिल किया गया है. जसप्रीत बुमराह को वनडे और टी-20 में आराम दिया गया है. जबकि वनडे व टी20 फॉर्मेट के लिए मनीष पांडेय और श्रेयस अय्यर की वापसी हुई है. इसके अलावा लेग स्पिनर राहुल चाहर और दीपक चाहर को टी20 टीम में जगह दी गई है.
चयनकर्ताओं ने इंडिया 'ए' में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को भारतीय टीम के तीनों फॉर्मेट में जगह दी है. मगर युवा बल्लेबाज शुभमन गिल को शामिल नहीं किया है.
दरअसल, टूर्नामेंट के बाद वेस्टइंडीज दौरा भारत के लिए अहम है और इस दौरान चयनकर्ताओं के पास यह देखने का भी मौका था कि क्या शुभमन गिल या श्रेयस अय्यर इस पोजिशन पर फिट हो सकते हैं?
दोनों बल्लेबाज फिलहाल, इंडिया-ए टीम के साथ वेस्टइंडीज का दौरा कर रहे हैं. रितुराज गायकवाड, शुभमन गिल और श्रेयस अय्यर के शानदार अर्धशतकों की मदद से इंडिया-ए ने रविवार को खेले गए पांचवें और अंतिम अनाधिकारिक वनडे मुकाबले में वेस्टइंडीज-ए को हराते हुए पांच मैचों की सीरीज 4-1 से अपने नाम कर ली. गिल ने जहां पिछले दो मैचों में 62 और 77 रनों की पारी खेली है तो वहीं अय्यर पहले मैच में 77 ओर अगले मैच में 47 रन बनाए.  
इसके अलावा वर्ल्ड कप टीम में शामिल मयंक अग्रवाल को भी मौका नहीं दिया गया. मयंक को इंग्लैंड एंड वेल्स में हुए विश्व कप के दौरान ऑलराउंडर विजय शंकर के चोटिल होने पर टीम में शामिल किया गया था. उस समय सभी को लगा कि टीम प्रबंधन अग्रवाल को भविष्य में भारत की वनडे टीम के हिस्से के रूप मे भी देख रहा है, लेकिन विंडीज दौरे के लिए चुनी गई वनडे टीम में सलामी बल्लेबाज को शामिल न करके चयनकर्ताओं ने सभी को हैरत में डाल दिया है.