पुणे । महाराष्ट्र स्थित पुणे-सोलापुर रोड पर एक हुए एक भयानक दुर्घटना में 9 दोस्तों की मौत हो गई। वहीं  घटनास्थल पर जब एक शख्स रुका, तो दौरान उसने देखा कि नौ मृतकों में से एक उसका चचेरा भाई भी था। 19-23 आयु वर्ग वाले नौ छात्रों की मौत हो गई, जब उनकी कार जिले के कदमवक बस्ती के पास लगभग 1:30 बजे एक ट्रक से टकरा गई थी। मौके पर अपना वाहन रोकने वाले मोहम्मद अली इस्माइल दया ने देखा कि मृतकों में से एक 21 वर्षीय चचेरे भाई नूर मोहम्मद अब्बास दया था, जिसे परिजन प्यार से सोनू बुलाते थे। उन्होंने कहा, 'वह कुछ काम के लिए पुणे आया था और घर लौट रहे थे। तभी उन्हें पुलिस कर्मियों के साथ एक बुरी तरह से टूटी हुई कार दिखी और उसके चारों ओर भीड़ थी। जब वह वाहन के पास पहुंचे तो उन्होंने देखा कि मृतक में से एक नूर था। वह इतना चौंक गए कि उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था।उन्होंने कहा, 'नूर अपने दोस्तों के साथ एक दिन की रायगढ़ के टूर पर गया था। आधी रात के करीबी उन्होंने परिवार के सदस्यों को बताया था कि वे पुणे पहुंच चुके हैं और जल्द ही घर आने वाले हैं।' पुलिस ने हादसे में मरने वाले अन्य लोगों की पहचान निखिल वबल, अक्षय घीगे, विशाल यादव, परवेज अत्तर, अक्षय वकार, जुबेर मुलानी, शुभम भिसे और दत्त भिसे के रूप में की है, जो सभी अलग-अलग कॉलेजों में पढ़ते हैं।एक्सीडेंट इतना जोरदार था कि कार पूरी तरह से बर्बाद हो गई और कुछ हिस्सों को खोलने के लिए पुलिस को गैस कटर लगाने करने पड़े।