पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शोएब मलिक, दक्षिण अफ्रीका के स्पिनर गेंदबाज इमरान ताहिर सहित तीन खिलाड़ियों ओर एक अंपायर ने विश्व कप के दौरान ही अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर करियर का समापन किया है। अपनी टीमों के बाहर होने के साथ ही इनकी क्रिकेट पारी भी समाप्त हो गयी।  इन खिलाड़ियों ने विश्व कप में खेला अपना अंतिम एकदिवसीय मुकाबला। 

इमरान ताहिर (दक्षिण अफ्रीका)
दक्षिण अफ्रीका के स्पिनर इमरान ताहिर ने अपना आखिरी एकदिवसीय मुकाबला खेल लिया है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला गया मैच उनके करियर का आखिरी मुकाबला था। ताहिर ने टि्वटर पर संन्यास का ऐलान किया था। उन्होंने ट्वीट किया था, 'मैं आखिरी बार दक्षिण् अफ्रीका की जर्सी पहनकर एकदिवसीय खेलने उतर रहा हूं, यह मेरे लिए बहुत भावुक क्षण है। मैं तहेदिल से उन सभी लोगों का धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने पूरे करियर के दौरान मेरा साथ दिया। और साथ ही क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका को विशेष रूप से धन्यवाद देना चाहता हूं जिसने मेरे सपने को हकीकत में बदला।' रेकॉर्ड- वनडे-107, विकेट-173, बेस्ट-7/45

शोएब मलिक (पाकिस्तान)
पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शोएब मलिक ने भी बांग्लादेश के खिलाफ टीम के मुकाबले के बाद एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा, ' मैं एकदिवसीय क्रिकेट से संन्यास ले रहा हूं। मैं उन सभी खिलाड़ियों जिनके साथ मैं खेला, वे सभी कोच जिनके अंडर मैंने ट्रेनिंग ली, परिवार, दोस्त, मीडिया और प्रसारकों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मैं आप सभी को बहुत प्यार करता हूं।' मलिक ने कहा कि वह क्रिकेट छोड़कर काफी दुखी हैं लेकिन अब उन्हें अपने परिवार के साथ अधिक वक्त बिताने का समय मिलेगा। रेकॉर्ड- मैच-287, पारी-258, रन-7534, सर्वोच्च-143, औसत-34.55, शतक-9, अर्धशतक-44, विकेट-158, सर्वश्रेष्ठ-4/19

जेपी ड्यूमिनी (दक्षिण अफ्रीका)
दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजी ऑलराउंडर जेपी ड्यूमिनी ने भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वर्ल्ड कप के मुकाबले के बाद एकदिवसीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया। ड्यूमिनी ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 198 एकदिवसीय मुकाबले खेले। 35 वर्षीय ड्यूमिनी ने 5103 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने चार शतक और 27 अर्धशतक लगाये। साथ ही उन्होंने 69 विकेट भी लिए।

इयान गूल्ड (इंग्लैंड)
इंग्लैंड के इयान गूल्ड ने अपने अंपायरिंग करियर से विदा लेने का इरादा कर लिया है। शनिवार को हेडिंग्ले मे भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया मुकाबला उनके अंपायरिंग करियर का आखिरी मुकाबला था। गूल्ड ने अपने करियर में 74 टेस्ट मैचों में अंपायरिंग की। वहीं भारत और श्री लंका के बीच खेला गया मैच उनके करियर का 140वां एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच था। गूल्ड का यह चौथा विश्व कप था। वह 2011 में भारत और पाकिस्तान के बीच मोहाली में हुए मैच के दौरान भी एक अंपायर थे।