अहमदाबाद | अहमदाबाद की मेट्रो कोर्ट ने अहमदाबाद जिला सहकारी (एडीसी) बैंक मानहानि केस में राहुल गांधी को रु. 15000 के बांड पर जमानत दे दी| गुजरात प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावडा राहुल गांधी के जमानतदार बने| 
शुक्रवार को अदालत में पेश हुए राहुल गांधी से न्यायधीश ने सवाल किया, क्या आपने गुनाह किया है| जिसके जवाब में राहुल गांधी ने इंकार करते हुए कहा, मैं निर्दोष हूं| अदालत ने फिर पूछा, क्या आपको मुकद्दमे के सारे कागजात मिल गए हैं| राहुल गांधी ने कहा, हां उन्हें सभी कागजात मिल गए हैं| अदालती कार्यवाही के दौरान राहुल गांधी ने कोर्ट को बताया कि पार्लामेंट की स्पेलिंग गलत है| मेट्रो कोर्ट में न्यायधीश एमबी मुंशी के समक्ष राहुल गांधी का बयान कलमबद्ध किया गया| एडीसी बैंक के वकील एसवी राजु ने कोर्ट से कहा कि यह एक आपराधिक मामला है और इसमें आरोपी को बगैर जमानत छोड़ा नहीं जा सकता| जिसका विरोध करते हुए राहुल गांधी के वकील बाबू मांगूकिया ने कहा कि उनके मुवक्कील को समन देकर बुलाया गया है और उसके लिए जमानत की जरूर नहीं है| कोर्ट कार्यवाही के बाद राहुल गांधी ने जमानत के लिए अर्जी की| मेट्रो कोर्ट ने रु. 15000 के बांड पर राहुल गांधी की जमानत मंजूर कर ली और मामले की अगली सुनवी 7 सितंबर को मुकर्रर की है|
गौरतलब नोटबंदी के दौरान राहुल गांधी और रणदीप सूरजेवाला ने अहमदाबाद जिला सहकारी (एडीसी) बैंक पर रु. 745 करोड़ के कालेधन को सफेद करने का आरोप लगाया था| जिसके बाद एडीसी बैंक के चेयरमैन अजय पटेल ने राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज करवाया था| कोर्ट ने इस मामले में अप्रैल महीने में सुनवाई की थी और राहुल गांधी को 27 मई को पेश होने का आदेश दिया था| लेकिन राहुल गांधी के अधिक समय मांगने की अपील के बाद कोर्ट ने उन्हें 12 जुलाई को हाजिर होने का आदेश दिया था|