पशुपालन, मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री श्री लाखन सिंह यादव ने आज मत्स्य महासंघ की कामकाज समिति की बैठक में कहा कि जलाशयों में अनुबंधित झींगा-पालकों के हितों का संरक्षण करें। बंद ऋतु में शासन के समक्ष नदीय नियम के अंतर्गत झींगा पकड़ने की अनुमति के संबंध में शासन के समक्ष प्रस्ताव प्रस्तुत करें।

बैठक में बताया गया कि मत्स्य महासंघ ने भीमगढ़, थावर, राजघाट सागर और माचागोरा जलाशयों में मछली-पालन के साथ-साथ झींगा-पालन का भी अनुबंध किया है। जलाशयों में झींगा-पालन कार्य को नवाचार के रूप में शुरू किया गया है। जलाशयों में क्रियाशील मछुआरों को वर्ष में दो बार जाल देने का निर्णय लिया गया।

मंत्री श्री यादव ने मत्स्य महासंघ परिसर में मत्स्य प्रजनन केन्द्र का निरीक्षण किया। इस मौके पर अपर मुख्य सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव और महाप्रबंधक मत्स्य महासंघ श्री एम.एस. धाकड़ भी उपस्थित थे।