जबलपुर
स्मार्ट सिटी जबलपुर में नगर निगम ने सोलर डस्टबिन लगाए थे | शहर में करीब दो दर्जन से ज्यादा डस्टबिन लगा भी दिए गए। एक सोलर डस्टबिन की कीमत करीब पौने दो लाख रुपए है। नगर निगम कमिश्नर आशीष कुमार के पास शिकायत पहुँची की लाखों रुपए के डस्टबिन में बड़ा घोटाला हुआ है जिसको लेकर कमिश्नर ने अब स्वयं इसकी जाँच करने की बात कही है।

दरअसल, स्मार्ट सिटी के अंतर्गत शहर भर में सोलर डस्टबिन लगाए गए थे, जिसमे मोबाइल चार्जिंग के साथ साथ वाई फाई भी लगाना था। लेकिन असल मे सोलर डस्टबिन के नाम पर स्मार्ट सिटी के अधिकारियों ने टीन के डिब्बे के अंदर प्लास्टिक के डिब्बे लगाकर रंग रोगन कर दिया। निगम आयुक्त आशीष कुमार का इस मामले को लेकर कहना है कि लगातार डस्टबिन की शिकायत आ रही थी जिसको लेकर मैं खुद इसकी जांच करूंगा साथ ही इससे जुड़ी फाइल को भी चेक करूंगा। जांच में अगर गड़बड़ी हुई तो दोषियों पर कठोर कार्यवाही भी की जाएगी।

निगम कमिश्नर ने कहा कि क्योंकि मैं अभी नया हूं इसलिए इस मामले में मुझे ज्यादा तो नहीं पता लेकिन अब जो की शिकायत आ रही है तो इसको जाकर में खुद देखूंगा।आशीष कुमार ने आश्चर्य जताया है कि सोलर डस्टबिन के वर्क ऑर्डर में आधुनिक डस्टबिन लगाने की बात हुई है तो फिर टीन के डिब्बे कैसे रख दिए गए। उन्होंने बताया कि करीब दस लाख का एक डस्टबिन होना चाहिए था जबकि एजेंसी ने करीब पौने ₹200000 के डस्टबिन खरीदने की बात की है।जबकि जिन डस्टबिन को लगाया गया है वह इतने रुपए के नही है।