ग्वालियर   कारगिल युद्ध के दौरान देश की रक्षा के लिये अपनी जान तक की दाव पर लगाने वाले अमर शहीद सरमन सिंह ने दुनियां में ग्वालियर का मान बढ़ाया है उक्त आशय के विचार आज कर्नल जोगिन्दर सिंह तंवर ने आज कारगिल शहीद सरमन सिंह खेल एवं शिक्षा प्रसार संस्था व नगर निगम द्वारा आयोजित दो दिवसीय शहीद सरमन सिंह के बलिदान दिवस कार्यक्रम के श्रृद्धांजली कार्यक्रम में अमर शहीदों को ‘‘सैन्य सलामी’’ के द्वारा पुष्पचक्र भेंट करते समय मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किऐ। शहीद सरमन सिंह सेना मेडल अर्पित करने वालों में सूबेदार जयपाल सिंह भदौरिया (द्वितीय राजरिफ) नायब सूबेदार नरेश सिंह, संस्था अध्यक्ष राकेश जादौन, संत गोविन्ददास नृत्य जी महाराज, सूबेदार एम.मैथ्यू, इन्द्र कुमार सिंह जिला कल्याण बोर्ड, सूबेदार मेजर अली शेर खॉ, मेजर सुनील पाठक, सभा पति राकेश माहौर, पार्षद जगत सिंह कौरव, सूबेदार रमेश भदौरिया, श्यामविहारी, सुभषचन्द्र, नेत्रपाल जादौन,मौजूद थे।
जेल रोड स्थित शहीद सरमन सिंह पार्क में आयोजित श्रृद्धांजली कार्यक्रम में संस्था अध्यक्ष राकेश जादौन ने कहा कि जब जब कारगिल युद्ध की बात होती है शहीद सरमन सिंह का जिक्र होठों पर आ ही जाता है। इतिहास में ग्वालियर का नाम वीरता में दर्ज कराने वाले शहीद सरमन सिंह को हम नमन करते हे। श्रृद्धांजली कार्यक्रम में सूबेदार जयपाल सिह भदौरिया ने कहा कि विश्व में बहुत सारे युद्ध लडे गये लेकिन कारगिल युद्ध वीरता की अनौठी दास्तान है। दुश्मन सुरक्षित पोजीशन में तैयार ऊंची चोटियों पर बंकर बना बैठा था। हमारे वीर सेनिकों के लिये चोटी के नीचे से ऊपर जाने का अत्यन्त दुष्कर लक्ष्य था। परन्तु हमारी सेना के पराक्रम के आगे सुरक्षित दुश्मन भी ढेर हो गया। सारे विश्व के लोग हमारे वरों की वीरता के आगे नतमस्तक हुये कारगिल विजय आज विश्व के सामने वीरता का अनुकरणीय उदाहरण है।
          इस अवसर पर शहीद सरमन सिंह की माता जी शिवपती देवी एवं पत्नी सरोज कुमारी देवी का सम्मान किया गया। कार्यक्रमों में एन.सी.सी. क्रेडिट ने सलामी दी। कार्यक्रम का संचालन श्याम सरीम ने किया व समापन वंदेमातरम एकल गीत द्वारा अंशुमान सेंगर ने किया।
 आज सुबह ६ बजे प्रा.बाइकर्स ग्रुप द्वारा शहीदों का प्रणाम साइकिल यात्रा  का प्रारंभ, रानीलक्ष्मी बाई की समाधी स्थल से सूबेदार जयपाल भदौरिया के द्वारा राष्ट्रीय ध्वज देकर राजीव चड्डा, लालवानी जी, अजय पाटिल व विवेक सेठी को प्रदान किया गया। विभिन्न मार्गो से होती हुई साईकिल यात्रा शहीद सरमन सिंह पार्क पहुची। और शहीद सरमन सिंह को पुष्प अर्पित करने वालों में प्रदीप पाण्डे, आकाश, मनीष, रेनू जी, चेतन,हिमाशू, विवेक, उमेश निर्मल, मोहित गोतम, शतीस, गौरव गिरधारी, प्रखर, सोनू बंसल, गिर्राज धाकड़, राजू बघेल आदि मोजूद थे।
श्रृद्धाजली सभा पश्चात् - प्रातः १० बजे देश के वीर जवानों के लिये व जरूरत मंदों के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।