जबलपुर। बेलखेड़ा थाना क्षेत्र के जुगपुरा गांव में रेत माफिया हाईटेक मशीनों के साहारे अवैध खनन कर रहे हैं। ऐसी मशीन लगाई गई है जो महज पांच मिनिट में हाईवा भर देती है। वहीं परिवहन के लिए बिना नंबर के वाहनों का उपयोग किया जा रहा है। जिससे यह पहचान करना मुश्किल होता है कि वाहन किसके हैं। ये वाहन नेशनल हाईवे से होते हुए बेलखेड़ा थाने के सामने से गुजरते हैं। ऐसे में सवाल यह खड़ा हो रहा है कि छोटे-छोटे मामलों पर कार्रवाई करने वाली पुलिस आखिर इन रेत माफियाओं पर खामोश क्यों है।
जुगपुरा घाट में रेत माफिया पोकलेन मशीन से रेत निकाल्ा रहा है। यह मशीन हाईटेक है, इसके बारे में कहा जाता है कि यह मशीन पांच मिनिट से भी कम समय में एक हाईवा रेत भर देती है। इस लिहाज से देखा जाए तो यह मशीन २४ घंटे में कम से कम एक हजार हाईवा रेत निकाल सकती है। इतनी बड़ी मात्रा में रेत निकाली जा रही है और प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी खबर भी नहीं है। सूत्रों की मानें तो प्रशासनिक अधिकारी और पुलिस की संलिप्तता भी इस अवैध खनन में है। 
एनजीटी के नियमों की धज्जियां
रेत माफिया सरेआम नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के नियमों की धज्यियां उड़ा रहे हैं। जुगपुरा घाट में रेत माफिया ने रेत निकालने के लिए पानी के अंदर रेम्प बनाया है। जबकि नियमों के मुताबिक पानी के अंदर से रेत नहीं निकाली जा सकती है। घाट में रेम्प बनाकर रेत निकाली जाती है इसी रेम्प के सहारे वाहन पोकलेन मशीन तक पहुंचते हैं। जानकरों की मानें तो इससे नदी का प्रवाह भी प्रभावित होता है।
गहरे गड्ढे बना दिए
जुगपुरा घाट में जहां रेत माफिया खनन कर रहे हैं वहां बड़े-बड़े गड्ढे बना दिए गए हैं। कई स्थानों पर गहरी खाई भी कट गई है। ग्रामीणों का कहना है कि इन गड्ढों में डूबने का खतर बढ़ गया है। चूंकि गांव के बच्चे, महिलाएं सभी इस घाट पर स्नान करने के लिए आते हैं, ऐसे में ये गहरे गड्ढे ग्रामीणों के लिए खतरा बन गए हैं।
ग्रामीणों में दहशत
बेलखेड़ा थाना क्षेत्र के जुगपुरा गांव में रेत माफिया का आतंक छाया हुआ है। ग्रामीण माफिया के डर से कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। ग्रामीणों ने नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि कई महीनों से गांव के घाट पर अवैध खनन किया जा रहा है। वाहनों की आवाजाही देर रात तक जारी रहती है। पूरी रात वाहन नौरादेही अभ्यारण्य की ओर निकल जाते हैं। करीब ४ किलोमीटर जंगल में चलने के बाद वाहन नेशनल हाईवे १२ पर पहुंचकर जबलपुर या फिर नरसिंहपुर निकल जाते हैं।
चरगवां घाट पर दबिश
प्रशासनिक टीम ने बुधवार को चरगवां घाट पर दबिश दी। इस दौरान मौके पर मौजूद रेत माफिया के कर्मचारी भाग गए। टीम ने मौके से दो पोकलेन मशीनें जब्त की हैं। वहीं रेत से भरे दो डंपर भी जब्त किए गए हैं। यह वाहन पुलिस के सुपुर्द किए गए हैं। एसडीएम मणेन्द्र सिंह के नेतृत्व में यह कार्रवाई की गई है। एसडीएम का कहना है कि लगातार कार्रवाई जारी रहेगी।